भिन्न से अनुपात की ओर : मो० उमर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bhinn Se Anupat Ki Aor : by Mu. Umar Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameभिन्न से अनुपात की ओर / Bhinn Se Anupat Ki Aor
Author
Category, , ,
Language
Pages 13
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

भिन्न से अनुपात की ओर का संछिप्त विवरण : ऐसे कई सवालों का इस्तेमाल मैंने अपनी कार्यशालाओं में किया है और अपने अनुभवों के आधार पर कह सकता हूँ कि अधिकांश लोग भिन्‍न को क्रम से जमाने के लिए पहले सभी भिन्‍न संख्याओं के हर को समान करते हैं, फिर अंश की संख्या के आधार पर बढ़ते क्रम में जमाते हैं। अन्त में वापस सवाल में दिए मूल भिन्‍न को बढ़ते क्रम में लिखते हैं……

Bhinn Se Anupat Ki Aor PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Aise kayi savalon ka istemal mainne apani karyshalaon mein kiya hai aur apane anubhavon ke aadhar par kah sakata hoon ki adhikansh log bhinna ko kram se jamane ke liye pahale sabhi bhinna sankhyaon ke har ko saman karate hain, phir ansh ki Sankhya ke aadhar par badhate kram mein jamate hain. Ant mein vapas saval mein diye mool bhinna ko badhate kram mein likhate hain…….
Short Description of Bhinn Se Anupat Ki Aor PDF Book : I have used many such questions in my workshops and based on my experiences, I can say that most people equate the denominator of all the different numbers first to sort the fractions, then in increasing order based on the numerator. Deposits in Finally, let’s write the original fractions in question in ascending order …….
“मैंने दार्शनिकता से सीखा है कि मैं वह सब कुछ बिना आदेश के करता हूं जो आम लोग कानून के डर से करते हैं।” ‐ अरस्तू
“I have gained this by philosophy: that I do without being commanded what others do only from fear of the law.” ‐ Aristotle

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment