ब्रजभाषा : धीरेन्द्र वर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Brajbhasha : by Dhirendra Verma Hindi PDF Book

Author
Category, ,
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“जीवन की आधी असफलताओं का कारण व्यक्ति का अपने घोड़े के छ्लांग लगाते समय उसकी लगाम खींच लेना होता है।‌‌‌” ‐ चार्ल्स हेयर
“Half the failures of this world arise from pulling in one’s horse as he is leaping.” ‐ Augustus Hare

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

ब्रजभाषा : धीरेन्द्र वर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Brajbhasha : by Dhirendra Verma Hindi PDF Book

ब्रजभाषा : धीरेन्द्र वर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Brajbhasha : by Dhirendra Verma Hindi PDF Book

  • Pustak Ka Naam / Name of Book : ब्रजभाषा / Brajbhasha Hindi Book in PDF
  • Pustak Ke Lekhak / Author of Book : धीरेन्द्र वर्मा / Dhirendra Verma
  • Pustak Ki Bhasha / Language of Book : हिंदी / Hindi
  • Pustak Ka Akar / Size of Ebook : 21.4 MB
  • Pustak Mein Kul Prashth / Total pages in ebook : 76
  • Pustak Download Sthiti / Ebook Downloading Status : Best

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

ब्रजभाषा : धीरेन्द्र वर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Brajbhasha : by Dhirendra Verma Hindi PDF Book

Pustak Ka Vivaran : pustak ke praarambhik adhyaayon me brajapradesh, brajavaasee janata,brajabhaasha saahity tatha aadhunik brajabhaasha kee sthiti ka parichay diya gaya hai. bhaugolik tatha saanskrtik paristhitiyon ka prabhaav brajabhaasha ke vikaas par kis prakaar pada isaka maulik vivechan is ansh me milega………….

अन्य ऐतिहासिक पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए- “ऐतिहासिक हिंदी पुस्तक

Description about eBook : In the early chapters of the book, the status of Brajpradesh, Brajwasi Janata, Brajbhasha literature and modern Brajbhasha have been introduced. In this part, the basic explanation of the impact of geographical and cultural conditions on the development of Braj Bhasha will be found……………..

To read other Historical books click here- “Hindi Historical Books

 

सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें

 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

 

“यदि आपने अपने जीवन की महानतम सफलता को प्राप्त करने की प्रक्रिया में किसी के दिल को ठेस पहुंचाई हैं तो आपको स्वयं को सर्वाधिक असफल व्यक्ति मानना चाहिए।”
– अज्ञात
——————————–
“You should treat yourself as most unsuccessful person, if you have hurt someone in the process of scaling the greatest success of your life.”
– Anonymous
Connect with us on Facebook and Instagram – सोशल मीडिया पर हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज लाइक करें. लिंक नीचे दिए है

Leave a Comment