यौगिक सूक्ष्म व्यायाम : धीरेन्द्र ब्रह्मचारी द्वारा हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Yogic Sukshma Vyayam : by Dhirendra Brahmchari Hindi PDF Book

Book Nameयौगिक सूक्ष्म व्यायाम / Yogic Sukshma Vyayam
Author
Category, , ,
Pages 211
Quality Good
Size 47 MB
Download Status Available

यौगिक सूक्ष्म व्यायाम का संछिप्त विवरण : जैसे ज्ञान-विज्ञान के बिना मोक्ष नहीं हो सकता , उसी प्रकार सदृगुरु से सम्बन्ध हुए बिना ज्ञान की प्राप्ति नहीं हो सकती। गुरु इस संसार-सागर से पार उतारने वाले हैं और उनका दिया गया ज्ञान नौका के समान बताया गया है। मनुष्य उस ज्ञान को पाकर भवसागर पार और कृतकृत्य हो जाता है , फिर उसे नौका और नाविक दोनों की ही अपेक्षा नहीं रह जाती है……

Yogic Sukshma Vyayam PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jaise gyaan-vigyaan ke bina moksh nahin ho sakta , usee prakaar sadguru se sambandh hue bina gyaan ki praapti nahin ho sakati. guru is sansaar-sagar se paar utaarne waale hain aur unka diya gaya gyaan nauka ke samaan bataya gaya hai. Manushy us gyaan ko paakar bhavsagar paar aur krat-krtya ho jaata hai , phir use nauka aur naavik donon ki hi apeksha nahin rah jaatee hai………….
Short Description of Yogic Sukshma Vyayam PDF Book : As there can not be salvation without knowledge, so can not be attained without having relation with Sadhguru. The gurus are going to cross this world-ocean and their knowledge is given as the boat itself. After getting that knowledge, the man becomes cross-crossed and becomes merciful, then he does not expect both boat and sailor…………….
“निकम्मे लोग सिर्फ खाने पीने के लिए जीते हैं, लेकिन सार्थक जीवन वाले जीवित रहने के लिए ही खाते और पीते हैं।” – सुकरात
“Worthless people live only to eat and drink; people of worth eat and drink only to live.” – Socrates

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment