मध्यदेश : धीरेन्द्र वर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Madhyadesh : by Dhirendra Verma Hindi PDF Book

Author
Category,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“उन लोगों से दूर रहें जो आप आपकी महत्त्वकांक्षाओं को तुच्छ बनाने का प्रयास करते हैं। छोटे लोग हमेशा ऐसा करते हैं, लेकिन महान लोग आपको इस बात की अनुभूति करवाते हैं कि आप भी वास्तव में महान बन सकते हैं।” ‐ मार्क ट्वेन
“Keep away from people who try to belittle your ambitions. Small people always do that, but the really great make you feel that you, too, can become great.” ‐ Mark Twain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

मध्यदेश : धीरेन्द्र वर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Madhyadesh : by Dhirendra Verma Hindi PDF Book

मध्यदेश : धीरेन्द्र वर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Madhyadesh : by Dhirendra Verma Hindi PDF Book

  • Pustak Ka Naam / Name of Book : मध्यदेश / Madhyadesh Hindi Book in PDF
  • Pustak Ke Lekhak / Author of Book : धीरेन्द्र वर्मा / Dhirendra Verma
  • Pustak Ki Bhasha / Language of Book : हिंदी / Hindi
  • Pustak Ka Akar / Size of Ebook : 46.0 MB
  • Pustak Mein Kul Prashth / Total pages in ebook : 228
  • Pustak Download Sthiti / Ebook Downloading Status : Best

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

मध्यदेश : धीरेन्द्र वर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Madhyadesh : by Dhirendra Verma Hindi PDF Book

Pustak Ka Vivaran : bhaaratavarsh ke praacheen tatha madhyakaaleen itihaas me uttarabhaarat aaryaavart ke naam se prasiddh tha manusmrti ke anusaar aaryaavart ka vistaar uttar me himaalay, dakshin me vidhy parvat, tatha poorv aur pashchim me samundr tak tha. aaryaavart ke paanch svaabhaavik bhogoolik bhaag maane jaate the udeechee (uttar), prateechee (pashchim), praachee (poorv), dakshin aur madhy………….

अन्य सामाजिक पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए- “सामाजिक हिंदी पुस्तक

Description about eBook : In the ancient and medieval history of India, it was famous as the name of the North India, Aryavarta, according to Manu Smriti, the detail of the Aryavarta was in the north, Himalayas in the north, Mount Vyadh in the south, and the sea in the east and west. Five naturalistic parts of Aryavarta were considered to be Uddichi (north), Prateechi (west), Prachi (East), South and Central……………..

To read other Social books click here- “Hindi Social Books

 

सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें

 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

 

“जिनसे प्रेम करते हैं, उन्हें जाने दें, वे यदि लौट आते हैं तो वे सदा के लिए आपके हैं। और अगर नहीं लौटते हैं तो वे कभी आपके थे ही नहीं।”
– खलील ज़िब्रान (१८८३-१९३१), सीरियाई कवि
——————————–
“If you love somebody, let them go, for if they return, they were always yours. And if they don’t, they never were.”
– Kahlil Gibran (1883-1931), Syrian Poet
Connect with us on Facebook and Instagram – सोशल मीडिया पर हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज लाइक करें. लिंक नीचे दिए है

Leave a Comment