चन्द्रकला नाटिका : प्रभात शास्त्री साहित्याचार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Chandrakala Natika : by Prabhat Shastri Sahityacharya Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

चन्द्रकला नाटिका : प्रभात शास्त्री साहित्याचार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Chandrakala Natika : by Prabhat Shastri Sahityacharya Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name चन्द्रकला नाटिका / Chandrakala Natika
Author
Category, , ,
Pages 184
Quality Good
Size 68 MB
Download Status Available

चन्द्रकला नाटिका का संछिप्त विवरण : द्वितीय अंक – राजा, महारानी के साथ उपवन में विचरते हुए भी अपने हृदय को चन्द्रकला से दूर करने में स्वंधा असमर्थ हैं। अचानक एक कोलाहल सुनायी पड़ता है कि भयानक व्याघ्र उपवन में प्रविष्ट हो गया है। राजा तुरन्त महारानी को अन्तःपुर में पारिचारिकाओं सहित जाने का निदेश कर स्वयं उस…….

Chandrakala Natika PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Dwitiy ank – Raja, Maharani ke sath upavan mein vicharate huye bhi apane hrday ko chandrakala se door karne mein svandha asamarth hain. achaanak ek kolaahal sunaayee padata hai ki bhayanak vyaghra upavan mein pravisht ho gaya hai. Raja turant Maharani ko antahpur mein paricharikaon sahit jane ka nidesh kar svayan us…….
Short Description of Chandrakala Natika PDF Book : Number II – The king, while wandering in the garden with the queen, is unable to take his heart away from the moonlight on his own. Suddenly a clamor is heard that a terrible tiger has entered the garden. The king immediately instructs the queen to go to the antpur with the attendants and herself………
“हम वस्तुओं को जैसी हैं वैसे नहीं देखते हैं। हम उन्हें वैसे देखते हैं जैसे हम हैं।” ‐ टालमड
“We do not see things they are. We see them as we are.” ‐ Talmud

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment