मंगल – प्रभात : गांधीजी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Mangal – Prabhat : by Gandhi Ji Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameमंगल - प्रभात / Mangal - Prabhat
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 42
Quality Good
Size 400 KB

पुस्तक का विवरण : गांधीजी ने यरवडा जेल का नाम ‘यरवडा मंदिर’ रखा था। वहां उन्हें बाहर के कुछ अख़बार पढ़ने को मिलते थे और आश्रम से खत भी अच्छी तादात में आते थे; फिर भी हम कह सकते है कि वह फुरसत का समय उन्होंने सूतयज्ञ में, चरखे की भक्ति में और गीता के चिंतन में ही बिताया। उस अरसे में का आश्रम के जीवन में ज्यादा जान फूंकने की जरुरत है ऐसी मांग दो-एक भाइयों की ओर से आने से उन्होंने………….

Pustak Ka Vivaran :  Gandhi ji ne yaravada jel ka nam yaravada mandir rakha tha. Vahan unhen bahar ke kuchh akhabar padhane ko milate the aur Ashram se khat bhi achchhi tadat mein aate the; phir bhee ham kah sakate hai ki vah phurasat ka samay unhonne sootayagy mein, charakhe kee bhakti mein aur geeta ke chintan mein hee bitaya. Us arase mein sabaramatee aashram ke jeevan mein jyada jan phoonkane kee jarurat hai aisi mang do-ek bhaiyon kee or se Aane se unhonne………..

Description about eBook : Gandhiji named the Yerwada Jail as the ‘Yerwada Temple’. There he used to get to read some newspapers outside and letters from the ashram also came in good numbers; Nevertheless, we can say that he spent his leisure time in sutayagya, devotion to charkha and contemplation of Gita. In that period, there is a need to spend more life in the life of Sabarmati Ashram, due to the demand from two brothers,………..

“लोग इसलिए अकेले होते हैं क्योंकि वह मित्रता का पुल बनाने की बजाय दुश्मनी की दीवारें खड़ी कर लेते हैं।” जोसेफ फोर्ट न्यूटन
“People are lonely because they build walls instead of bridges” Joseph fort Newton

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment