दिवाली के पटाखे : रेखा जैन द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Diwali Ke Patakhe : by Rekha Jain Hindi PDF Book

Book Nameदिवाली के पटाखे / Diwali Ke Patakhe
Author
Category, , , , ,
Pages 72
Quality Good
Size 665 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जब मैं बच्चों के बीच होती हूँ तो वे मुझे खिले हुए रंग बिरंग फूलों की तरह जान पड़ते हैं, और मुझे लगता है कि उनको यदि ठीक से संवारा संजोया जाए तो उनकी प्रतिमा की सुगंध से देश का भविष्य भर उठेगा। इसलिए यह बार बार मन में आती है कि इनकी प्रतिभा के विकास के लिए क्या साधन आपनाये जाए………..

Pustak Ka Vivaran : Jab main bachcho ke beech hoti hoon to ve mujhe khile hue rang birang phoolo kee tarah jaan padate hai, aur mujhe lagata hai kee unako yadi theek se sanvaara sanjoya jae to unakee pratima kee sugandh se desh ka bhavishy bhar uthega. isalie yah baat baar baar man me aatee hai kee inakee pratibha ke vikaas ke lie kya saadhan apanae jaye………….

Description about eBook : When I am among the children, they feel like the colorful flowers in me, and I feel that if they are properly preserved, the fragrance of their statue will rise in the future of the country. That is why it comes to mind again and again what instrument is adopted for the development of their talents……………

“सफलता खुशी की कुंजी नहीं है। खुशी सफलता की कुंजी है। यदि आप अपने काम को दिल से करते हैं, तो आप ज़रूर सफल होंगे।” हेरमन कैन
“Success is not the key to happiness. Happiness is the key to success. If you love what you are doing, you will be successful.” Herman Cain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment