डॉ. बाबासाहब आंबेडकर : वसंत मून द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – जीवनी | Dr. Babasahab Ambedkar : by Vasant Moon Hindi PDF Book – Biography (Jeevani)

डॉ. बाबासाहब आंबेडकर : वसंत मून द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - जीवनी | Dr. Babasahab Ambedkar : by Vasant Moon Hindi PDF Book - Biography (Jeevani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name डॉ. बाबासाहब आंबेडकर / Dr. Babasahab Ambedkar
Author
Category, , , ,
Language
Pages 234
Quality Good
Size 13 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उसके पास धन का अभाव था। इसलिए सैर सपाटे पर जाना, सिनेमा देखना, इत्यादि बातों की ओर उसका मन कभी नहीं दौड़ा। उन्हें अपने भोजन के लिए एक डालर और दस सेंत खर्च करने पड़ते थे। इसमें एक कप और दो एक, एक प्लेट मछली या सब्जी मिल जाती थी। जब तक जोर की भूख न लगे तब तक वे खाने पर भी कुछ नहीं करते थे ……….

Pustak Ka Vivaran : Usake pas dhan ka abhav tha. Isaliye sair sapate par jana, sinema dekhana, ityadi baton kee or usaka man kabhi nahin dauda. Unhen apane bhojan ke liye ek dalar aur das sent kharch karane padate the. Isamen ek kap aur do ek, ek plet machhalee ya sabjee mil jatee thee. Jab tak jor kee bhookh na lage tab tak ve khane par bhee kuchh nahin karate the…………

Description about eBook : He lacked money. Therefore, he never ran towards things like going on a walk, watching cinema, etc. They had to spend one dollar and ten cents for their food. A cup and two, a plate of fish or vegetable were available in it. He did not even eat food until he was very hungry…………

“आकार का इतना अधिक महत्त्व नहीं होता है। व्हेल मछली का अस्तित्व खतरे में है जबकि चींटी एक सहज जीवन जी रही है।” ‐ बिल वाघन
“Size isn’t everything. The whale is endangered, while the ant continues to do just fine.” ‐ Bill Vaughan

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment