गढ़वाली लोककला और लोकसाहित्य का तुलनात्मक अनुशीलन : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Gadhvali Lokkala Or Loksahitya Ka Tulnatmak Anushilan : by Hindi PDF Book – Literature ( Sahitya )

गढ़वाली लोककला और लोकसाहित्य का तुलनात्मक अनुशीलन : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Gadhvali Lokkala Or Loksahitya Ka Tulnatmak Anushilan : by Hindi PDF Book - Literature ( Sahitya )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गढ़वाली लोककला और लोकसाहित्य का तुलनात्मक अनुशीलन / Gadhvali Lokkala Or Loksahitya Ka Tulnatmak Anushilan
Category, , ,
Language
Pages 309
Quality Good
Size 54 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : प्रत्येक क्षेत्र की अपनी कुछ विशिष्टताएं होती है, जो उसे औरो से प्रथक करती है | खान-पान, भाषा, बोली, रहन-सहन तो उस अंतर को स्पष्ट करते ही है, उनसे भी बढ़कर, वहां का साहित्य और कला होती है जो सम्बंधित क्षेत्र की अलग पहचान कराती है | इस सबसे संरक्षण और संवर्द्धन का दायित्व वहां के लोगो का होता है…….

Pustak Ka Vivaran : Pratyek kshetr ki apni kuch vishishtataen hoti hai, jo use auro se prathak karti hai. Khan-paan, bhasha, boli, rahan-sahan to us antar ko spasht karte hi hai, unse bhi badhkar, vahan ka sahity aur kala hoti hai jo sambandhit kshetr ki alag pahchan karati hai. Is sabse sanrakshan aur sanvarddhan ka dayitv vahan ke logo ka hota hai…………

Description about eBook : Each area has its own specificities, which it reveals to others. Food, language, dialect, living and living are also explained by that difference, even more than that, there is literature and art that differentiates the respective area. The responsibility of this conservation and promotion is to the people there………….

“भाग्य अवसर और तैयारी के मिलन की बात है।” ‐ ओपरा विनफ्री, अमरीकी अभिनेत्री
“Luck is a matter of preparation meeting opportunity.” ‐ Oprah Winfrey, American Actress

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment