गंगाद्वार : लक्ष्मीनारायण मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Gangadwar : by Lakshmi Narayan Mishra Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameगंगाद्वार / Gangadwar
Author
Category, ,
Pages 150
Quality Good
Size 15.4 MB
Download Status Available

गंगाद्वार का संछिप्त विवरण : इन तीनों के गुण, उपयोग अनुभव से जाने जाते हैं श्रेष्ठी ! इनकी चर्चा बातों में नहीं चलती । जो इन तीनों की प्रकृति से परिचित होते हैं, वे इनके विषय में मौन रहते हैं। जो नहीं जानते वे शब्द से इनका सुख लेने की मूखंता करते हैं । तुम्हारे देखे किस पत्तन में सबसे अधिक पोत आते हैं ? जाने वाले पोतों की संख्या भी कहाँ अधिक है? किस पत्तन में……..

Gangadwar PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : In Teenon ke Gun, Upyog Anubhav se jane jate hain shreshthi ! Inaki charcha baton mein nahin chalati . Jo in Teenon kee prakrti se parichit hote hain, ve inake vishay mein maun rahate hain. Jo nahin Janate ve shabd se inaka sukh lene kee mookhanta karate hain . Tumhare dekhe kis Pattan mein Sabase adhik pot aate hain ? Jane vale poton kee sankhya bhee kahan adhik hai? Kis Pattan mein………
Short Description of Gangadwar PDF Book : The qualities of these three are known from experience and experience! Their discussion does not go on talking. Those who are familiar with the nature of these three, they remain silent about them. Those who do not know, it is foolish to take pleasure in their words. Which port do you see the most ships in? Where is the number of ships going out too? In which port ………
“खेलों के बारे में अकसर ऐसे कहा जाता है मानो यह गंभीर शिक्षा से राहत हो। लेकिन बच्चों के लिए खेल गंभीर शिक्षा ही है। खेल ही वास्तव में बचपन का काम है।” फ्रेड रोजर्स
“Play is often talked about as if it were a relief from serious learning. But for children play is serious learning. Play is really the work of childhood.” Fred Rogers

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment