गिद्ध की आँखे : श्यामसुन्दर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Giddh Ki Ankhen : by Shyamsundar Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameगिद्ध की आँखे / Giddh Ki Ankhen
Author
Category, ,
Language
Pages 352
Quality Good
Size 19.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मेरे प्रथम उपन्यास ‘चट्टानें’ के पश्चात्‌ यह मेरा दूसरा उपन्यास ‘गिद्ध की आँखे’ समाज केसमक्ष उपस्थित किया जा रहा है | इसमें गाँधी युग से लेकर आज तक के युग सत्य का जागरूक चित्रण है | गाँधी जी जिस आदर्श को लेकर समाज का निर्माण करना चाहते थे, आज प्रत्येक क्षेत्र में ठीक उसके विपरीत भ्रष्टाचार हो रहा हे………

Pustak Ka Vivaran : Mere pratham upanyas chattanen ke pashchat yah mera dusra upanyas giddh ki aankhe samaj ke samaksh upasthit kiya ja raha hai. Ismen gandhi yug se lekar aaj tak ke yug saty ka jagruk chitran hai. Gandhi ji jis aadarsh ko lekar samaj ka nirman karna chahte the, aaj pratyek kshetr mein thik uske viparit bhrashtachar ho raha hai…………

Description about eBook : After my first novel ‘Rocks’, this is my second novel, ‘Eye of the Gift’, being presented before the society. There is a conscious depiction of truth from the era of Gandhi era till today. Gandhiji, who wanted to create a society about the ideal, today corruption is happening in every region……………….

“मुझे अफ़सोस है कि मेरे बच्चे जब बड़े हो रहे थे तब मेरे पास उनके साथ गुजारने के लिए समय का अभाव था।” ‐ टीना टर्नर
“I regret not having had more time with my kids when they were growing up.” ‐ Tina Turner

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment