बड़ी बड़ी आँखें : अश्क द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Badi Badi Ankhen : by Ashk Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

बड़ी बड़ी आँखें : अश्क द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Badi Badi Ankhen : by Ashk Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बड़ी बड़ी आँखें / Badi Badi Ankhen
Author
Category, , , ,
Language
Pages 232
Quality Good
Size 18 MB
Download Status Available

बड़ी बड़ी आँखें का संछिप्त विवरण : शायद वहाँ मेरे आने की प्रतीक्षा थी, क्योंकि पहली कोठी के, बरामदे ही में मुझे तीरथराम मिल गया। उसके ज़िम्मे उन दिलों अतिथि-सेवः का काम था। जब मेंने उसे अपने आने का प्रयोजन बताया तो वहीं वरामदे में मेरा बिस्तर उतरवाकर वह मुझे बीच की एक कोठी में ले गया। उस कोठी के बायें कमरे पर……..

Badi Badi Ankhen PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Shayad vahan mere aane ki pratiksha thee, Kyonki pahali kothi ke, baramade hi mein mujhe teerathram mil gaya. Usake zimme un dilon atithi-sevah ka kam tha. Jab menne use apane aane ka prayojan bataya to vaheen varamade mein mera bistar utaravakar vah mujhe beech ki ek kothi mein le gaya. Us kothi ke bayen kamare par Neele rang ka………
Short Description of Badi Badi Ankhen PDF Book : Probably there was a wait for me to come, because I found Tirathram in the verandah of the first Kothi. His charge was the work of those hearts, guest-servants. When I told him the purpose of my arrival, after getting off my bed in the varamde, he took me to a middle kothi. The blue color on the left room of that kothi ………
“सम्पन्नता कीमती साज-सामान एकत्रित करना नहीं बल्कि अपनी आवश्यकताओं को सीमित रखना है।” ‐ एपिक्टेटस
“Wealth consists not in having great possessions, but in having few wants.” ‐ Epictetus

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment