ग्रामीण व नगरीय महिलाओं में सामाजिक एवं संवैधानिक अधिकारो के प्रति संचेतना का समाजशास्त्रीय अध्ययन : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Gramin Evam Nagriya Mahilaon Me Samajik Evam Sanvaidhanik Adhikaro Ke Prati Sanchetna Ka Samaj Shastriya Adhyayan : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

ग्रामीण व नगरीय महिलाओं में सामाजिक एवं संवैधानिक अधिकारो के प्रति संचेतना का समाजशास्त्रीय अध्ययन : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Gramin Evam Nagriya Mahilaon Me Samajik Evam Sanvaidhanik Adhikaro Ke Prati Sanchetna Ka Samaj Shastriya Adhyayan : Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ग्रामीण व नगरीय महिलाओं में सामाजिक एवं संवैधानिक अधिकारो के प्रति संचेतना का समाजशास्त्रीय अध्ययन / Gramin Evam Nagriya Mahilaon Me Samajik Evam Sanvaidhanik Adhikaro Ke Prati Sanchetna Ka Samaj Shastriya Adhyayan
Category, ,
Language
Pages 320
Quality Good
Size 99 MB
Download Status Available

ग्रामीण व नगरीय महिलाओं में सामाजिक एवं संवैधानिक अधिकारो के प्रति संचेतना का समाजशास्त्रीय अध्ययन का संछिप्त विवरण : इस शोध प्रबन्ध का सातत्य एवं सुगठित नियोजन बनाये रखने में मेरे परमादरणीय पिता श्री रामपाल गुप्ता एवं श्रद्धेय माता श्रीमती आशा गुप्ता का जिनके अनवरत प्रोत्साहन एवं सहयोग से इस चुनौतीपूर्ण कार्य को पूर्ण कर पायी, जिनका आभार मैं शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकती। साथ ही मैं अपने ताउ श्री रामनारायण गुप्ता की विशेष आभारी हूँ यह………

Gramin Evam Nagriya Mahilaon Me Samajik Evam Sanvaidhanik Adhikaro Ke Prati Sanchetna Ka Samaj Shastriya Adhyayan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Is Shodh Prabandh ka sataty evan Sugathit Niyojan banaye Rakhane mein mere Paramadarniy Pita Shri Rampal Gupta evan Shraddhey mata Shrimati Aasha Gupta ka jinke Anavarat protsahan evan sahyog se is Chunautipurn kary ko purn kar payi, Jinka Aabhar main Shabdon mein vyakt nahin kar sakti. Sath hi main Apne tau Shri Ramnarayan Gupta ki Vishesh Aabhari hoon yah……..
Short Description of Gramin Evam Nagriya Mahilaon Me Samajik Evam Sanvaidhanik Adhikaro Ke Prati Sanchetna Ka Samaj Shastriya Adhyayan PDF Book : My esteemed father Shri Rampal Gupta and revered mother Smt. Asha Gupta, whose relentless encouragement and cooperation made me able to complete this challenging task, thanks to which I cannot express my gratitude in words. Also, I am very grateful to my uncle Shri Ramnarayan Gupta…….
“विवाह के बंधन दूसरे बंधनों जैसे हैं – इन्हें मजबूत होने में वक़्त लगता है।” ‐ पीटर डे राइस
“The bonds of matrimony are like any other bonds – they mature slowly.” ‐ Peter De Vries

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment