हिमालय की आग : विन्ध्याचल प्रसाद गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Himalaya Ki Aag : by Vindhyachal Prasad Gupt Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameहिमालय की आग / Himalaya Ki Aag
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 210
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : “भारत जिन बातों का समर्थक है जैसे शान्ति, तटस्था और विभिन्न सामाजिक तथा राजनीतिक व्यवस्था वाले राष्ट्रों के शान्तिपूर्ण सहअस्तित्व – उन पर आघात पहुँचाने के लिए चीन ने सीमा सम्बन्धी मतभेदों का एक बहाने के रूप में इस्तेमाल किया । चीन और भारत के संघर्ष सीमान्त के पर्वतीय प्रदेशों में सीमा-निर्धारण विषयक मतभेदों से ही सम्बद्ध…….

Pustak Ka Vivaran : “Bharat jin baton ka Samarthak hai jaise shanti, tatastha aur vibhinn samajik tatha Rajaneetik vyavastha vale Rashtron ke shantipurn sahastitv – un par Aaghat pahunchane ke liye cheen ne seema sambandhi matabhedon ka ek bahane ke roop mein istemal kiya . Chine aur bharat ke sangharsh seemant ke parvateey pradeshon mein seema-nirdharan vishayak matabhedon se hi sambaddh……..

Description about eBook : “China used as a pretext for border differences to attack what India advocates like peace, cohesion and the peaceful coexistence of nations with different social and political systems. Related to border-related differences in the mountainous regions of the border of China and India …….

“हर बार जब मैं वास्तविकता से मुंह मोड़ता हूं, तो यह दूसरा रूप लेकर मेरे सामने आ जाती है।” ‐ जेनिफर जूनियर
“Every time I close the door on reality, it comes in through the windows.” ‐ Jennifer Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment