जागृति का सन्देश : स्वामी विवेकानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Jagrati Ka Sandesh : by Swami Vivekanand Hindi PDF Book – Social (Samajik)

जागृति का सन्देश : स्वामी विवेकानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Jagrati Ka Sandesh : by Swami Vivekanand Hindi PDF Book – Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जागृति का सन्देश / Jagrati Ka Sandesh
Author
Category, , ,
Language
Pages 200
Quality Good
Size 7 MB

पुस्तक का विवरण : मैं तुम लोगो को घोर नास्तिक देखना पसंद करूंगा लेकिन कुसंस्कारों से भरे मुर्ख देखना न चाहूँगा | नास्तिकों में कुछ न कुछ जीवन तो होता है ; उनके सुधर की तो सबत्राशा है, | वे मुर्दे तो नहीं है लेकिन यदि मस्तिष्क में कुसंस्कार घुश जाते है, तो वह बिलकुल बेकार हो जाता है | दिमाग बिलकुल फिर जाता है……….

PustakKaVivaran : Main tum logo ko ghor naastik dekhana pasand karoonga lekin kusanskaaron se bhare murkh dekhana na chaahoonga. Naastikon mein kuchh na kuchh jeevan to hota hai; unake sudhar kee to sab traasha hai. Ve murde to nahin hai lekin yadi mastishk mein kusanskaar ghush jaate hai, to vah bilakul bekaar ho jaata hai. Dimaag bilakul phir jaata hai………….

Description about eBook : I would love to see you people atheistic atheists but do not want to see a fool full of cynicals. Atheists have some life; All their tragedies are corrected. They are not dead, but if the unscrupulous person gets entangled in the brain, then he is totally useless. The brain goes well…………..

“धैर्य कडुवाहट पूर्ण हो सकता है, लेकिन इसका फल मीठा होता है।” ‐ जीन जैकेस रोस्सियू
“Patience is bitter, but its fruits are sweet.” ‐ Jean Jacques Rousseau

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment