जैन योग : आचार्य महाप्रज्ञ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Jain Yog : by Acharya Mahapragya Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Author
Category,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“आपको यह चुनने का अवसर नहीं मिलता है कि आप किस प्रकार से अथवा कब मरेंगे। आप केवल इतना ही निर्णय कर सकते हैं कि आप किस प्रकार से जिंदगी को ज़ीने जा रहे हैं!” – जॉन बेज़
“You don’t get to choose how you’re going to die, or when. You can only decide how you’re going to live, Now!” – Joan Baez

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

जैन योग : आचार्य महाप्रज्ञ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Jain Yog : by Acharya Mahapragya Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

जैन योग : आचार्य महाप्रज्ञ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Jain Yog : by Acharya Mahapragya Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)

  • Pustak Ka Naam / Name of Book : जैन योग / Jain Yog Hindi Book in PDF
  • Pustak Ke Lekhak / Author of Book : आचार्य महाप्रज्ञ / Acharya Mahapragya
  • Pustak Ki Bhasha / Language of Book : हिंदी / Hindi
  • Pustak Ka Akar / Size of Ebook : 7 MB
  • Pustak Mein Kul Prashth / Total pages in ebook : 235
  • Pustak Download Sthiti / Ebook Downloading Status : Best

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

जैन योग : आचार्य महाप्रज्ञ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Jain Yog : by Acharya Mahapragya Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)

 

 

 

Pustak Ka Vivaran : Adhyatmik vyakti saty ka anveshi hota hai. Vah apne charo or vikirn sukshm satyo tatha agyat rahasyon ko janne ke lie chetna ke sukshmatam staron se gujarta hai. Saty ko pane se pahle vah apni khoj ke lie samarpit hota hai. Antashchetna ki bechain anveshana mein vah apne aapko kho deta hai…………

अन्य आध्यात्मिक पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए- “आध्यात्मिक हिंदी पुस्तक”

Description about eBook : The spiritual person is invisible to the truth. He passes through the subtlest levels of consciousness to know the subtle truths and unknown secrets around him. Before attaining the truth, he is dedicated to his quest. He loses himself in the restless quest of conscience…………….

To read other Spiritual books click here- “Spiritual Hindi Books”

 

सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें

 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

 

“आपको मानवता में विश्वास नहीं खोना चाहिए। मानवता एक सागर की तरह है, यदि सागर की कुछ बूंदे खराब हैं तो पूरा सागर गंदा नहीं हो जाता है।”

– मोहनदास गांधी
——————————–
“You must not lose faith in humanity. Humanity is an ocean; if a few drops of the ocean are dirty, the ocean itself does not become dirty.”
–  Mohandas Gandhi
Connect with us on Facebook and Instagram – सोशल मीडिया पर हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज लाइक करें. लिंक नीचे दिए है

Leave a Comment