जवानी का नशा : श्री जयनाथ ‘नलिन’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Javani Ka Nasha : by Shri Jaynath ‘Nalin’ Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameजवानी का नशा / Javani Ka Nasha
Author
Category, , , ,
Language
Pages 170
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

जवानी का नशा पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : पर मैंने उन्हें कोई जवाब नहीं दिया और अपने कमरे में आ गया तुरन्त दरवाज़ा भेड़ कर
कपड़े उतारे। बनियान से लेकर कोट का नीचे का भाग तक खून से रंग गया था। चूतड़ों पर पतलून कट-फट
चुकी थी | शीशा निकाल कर देखा, २-३ इंच लम्बा तथा उतना ही चौड़ा घाव था | हाथ लगाया, तो एक गहरी
आह निकल गई | गोश्त निकल आया था। अब खून तो नहीं…

Javani Ka Nasha PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Mainne unhen koi Javab nahin diya aur apne kamare mein aa gaya turant darvaza bhed kar kapade utare. Baniyan se lekar kot ka Neeche ka bhag tak khoon se rang gaya tha. Chootadon par pataloon kat-phat chuki thi. Sheesha Nikal kar dekha, 2-3 inch lamba tatha utana hi chauda ghav tha. Hath lagaya, to ek gahari aah nikal gayi. Gosht nikal aaya tha. Ab khoon to nahin…….

Short Description of Javani Ka Nasha Hindi PDF Book : But I did not answer them and came to my room and immediately stripped the door sheepishly. From the vest to the bottom of the coat was stained with blood. The trousers were cut and torn on the crooks. Removed the glass and saw it was 2-3 inches long and equally wide wound. Hands up, then a deep sigh erupted. The meat came out. Now there is no blood …….

 

“वह व्यक्ति समर्थ है जो यह मानता है कि वह समर्थ है।” ‐ बुद्ध
“He is able who thinks he is able.” ‐ Buddha

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment