कथा राम की : डॉ. शिव बरुआ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Katha Ram Ki : by Dr. Shiv Barua Hindi PDF Book – Drama (Natak)

कथा राम की : डॉ. शिव बरुआ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - नाटक | Katha Ram Ki : by Dr. Shiv Barua Hindi PDF Book - Drama (Natak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कथा राम की / Katha Ram Ki
Author
Category, , , ,
Language
Pages 208
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : विश्वामित्र – जानता हूँ। लेकिन आज्ञा की विचारपूर्वक दी जानी चाहिए। आज्ञा देकर विवाह कराना कतई उचित नहीं है। क्योंकि आदेश और व्यवस्थाओं से दाम्पत्य जीवन सुखद नहीं होता है। माता-पिता की अपनी संतान की भावनाओं का भी ध्यान रखना चाहिए। साँची राजन ! राजपुत्र की कन्या प्रिय नहीं हुई तप पुन: विवाह भी हो सकता है। मैं आज्ञा के नाम……..

Pustak Ka Vivaran : Vishvamitra – janata hoon. Lekin Aagya ki Vicharapurvak di jani chahiye. Aagya dekar vivah karana kati uchit nahin hai. Kyonki Aadesh aur vyavasthaon se dampaty jeevan sukhad nahin hota hai. Mata-Pita ki Apani Santan ki bhavanaon ka bhi dhyan rakhana chahiye. Sanchi Rajan ! Rajputra ki kanya priy nahin huyi tap pun: vivah bhi ho sakata hai. Main Aagya ke nam……..

Description about eBook : Vishwamitra – I know. But the command should be given thoughtfully. Getting married by giving orders is not right at all. Because orders and arrangements do not make married life enjoyable. Parents should also take care of the feelings of their children. Sanchi Rajan! Rajput son’s daughter is not loved, tenacity can also be married again. I commanded ……..

“अपनी आयु की गिनती अपने मित्रों से करें, वर्षों से नहीं। अपने जीवन को मुस्कुराहटों से आंके, अश्रुओं से नहीं।” ‐ जॉन लेनन
“Count your age by your friends, not years. Count your life by smiles, not tears.” ‐ John Lennon

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment