काव्य के अंग : डॉ. भगीरथ मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Kavya Ke Ang : by Dr. Bhagirath Mishra Hindi PDF Book – Poetry (Kavya)

काव्य के अंग : डॉ. भगीरथ मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - काव्य | Kavya Ke Ang : by Dr. Bhagirath Mishra Hindi PDF Book - Poetry (Kavya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name काव्य के अंग / Kavya Ke Ang
Author
Category, , , ,
Language
Pages 70
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

काव्य के अंग  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : मनुष्य सामाजिक प्राणी है। उसमें अपने मन के भावों और विचारों को प्रकट करने और
दूसरे के मन के भावों और विचारों को जानने की बलवती इच्छा रहती है। भावों और विचारों के इस आदान-
प्रदान का सबसे सरल और समर्थ साधन है वाणी। वाणी का प्रयोग मुख्यत तीन प्रकार से किया जाता है.

Kavya Ke Ang PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Manushy Samajik Prani hai. Usamen Apane man ke bhavon aur vicharon ko prakat karane aur doosare ke man ke bhavon aur vicharon ko janane ki balavati ichchha rahati hai. Bhavon aur vicharon ke is Aadan-Pradan ka sabase saral aur samarth sadhan hai vani. Vani ka prayog mukhyat teen prakar se kiya jata hai………..“

Short Description of Kavya Ke Ang Hindi PDF Book : Man is a social animal. There is a strong desire in him to reveal his thoughts and thoughts and to know the thoughts and thoughts of another’s mind. Vani is the simplest and able means of this exchange of feelings and thoughts. Vani is mainly used in three ways …

 

“यह एक प्रकार का आध्यात्मिक दंभ है जिसमें लोगों को लगता है कि वे धन के बिना सुखी रह सकते हैं।” ‐ एल्बर्ट कामू
“It is a kind of spiritual snobbery that makes people think they can be happy without money.” ‐ Albert Camus

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment