सोया मन जग जाए : युवाचार्य महाप्रज्ञ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Soya Man Jag Jaye : by Yuvacharya Mahapragya Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Nameसोया मन जग जाए / Soya Man Jag Jaye
Author
Category,
Pages 238
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

सोया मन जग जाए पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : मन का अस्तित्व दो अवस्थाओं में है। वद्ठ सोता भी है और जागता भी है। मनुष्य का
लक्ष्य रहा है – वह सोया न रहे, जाग्रत रहे। उसका पुरुषार्थ भी इस दिशा में होता रहा है। फिर भी उसकी

नियति है कि उसका मन सोले को अधिक पसन्द करता है। प्रस्तुत संदर्भ में मत का अर्थ है- मनल शक्ति।
मलुष्य सच्चाई को सुनाता है, पढता है | किन्तु उस पर मतन नहीं करता या बहुत काम करता.

Soya Man Jag Jaye PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Man ka Astitv do Avasthaon mein hai. Vah Sota bhi hai aur Jagata bhi hai. Manushy ka Lakshy raha hai – Vah soya na rahe, jagrat rahe. Usaka Purusharth bhi is disha mein hota raha hai. Phir bhee usaki Niyati hai ki usaka man sone ko Adhik pasand karata hai. Prastut Sandarbh mein man ka arth hai- Manan Shakti. Manushy Sachchai ko Sunata hai, Padhata hai . Kintu us par Manan nahin karata ya bahut kam karata……….

 

Short Description of Soya Man Jag Jaye Hindi PDF Book  : The mind exists in two states. He also sleeps and wakes up. The goal of man is – he should not sleep, be awake. His efforts have also been in this direction. Yet his destiny is that his mind likes gold more. In the context presented, the meaning of mind is contemplation. Man tells the truth, reads it. But don’t meditate on it or do a lot of work ……..

 

“खुशी, दुख से कहीं अधिक पवित्र होती है; चूंकि खुशी रोटी है और दुख दवा है।” ‐ बीचर
“Joy is more divine than sorrow; for joy is bread, and sorrow is medicine.” ‐ Beecher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment