कुछ करो कुछ बनो : स्वामी जगदीश्वरानन्द सरस्वती द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Kuchh Karo Kuchh Bano : by Swami Jagdishvaranand Saraswati Hindi PDF Book  – Social (Samajik)

Book Nameकुछ करो कुछ बनो / Kuchh Karo Kuchh Bano
Author
Category, ,
Language
Pages 128
Quality Good
Size 1.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सहसा एक भारतीय सैनिक, जिसका एक हाथ युद्ध में कट गया था, दौड़ता हुआ उस सुरंग में आया। जनरल शाहनवाज़ ने उसे सान्त्वना देने के लिए कुछ शब्द कहे तो वह गर्व के साथ बोला, “जनरल ! शोक या खेद की कोई बात नहीं है। मैंने अपना यह शरीर और जीवन भारत माता के अर्पण किया था। उसमें से उसने एक हाथ स्वीकार कर लिया है, यह………..

Pustak Ka Vivaran : Sahsa Ek Bharatiya Sainik, Jiska ek hath yuddh mein kat gaya tha, Daudata huya us Surang mein aaya. General Shahanvaz ne use santvana dene ke liye kuchh shabd kahe to vah Garv ke sath bola, “General ! Shok ya khed ki koi bat nahin hai. Mainne apna yah shareer aur jeevan Bharat Mata ke Arpan kiya tha. Usamen se usane ek hath Svikar kar liya hai, yah

Description about eBook : Description of the book : Suddenly an Indian soldier, whose arm was cut off in battle, came running into that tunnel. When General Shahnawaz said a few words to console him, he said with pride, “General! There is nothing to be sad or sorry for. I had offered this body and my life to Mother India. out of which he has accepted a hand, it……..

“समस्त संसार के लिए हो सकता है कि आप केवल एक इंसान हों लेकिन संभव है कि किसी एक इंसान के लिए आप समस्त संसार हों।” ‐ जोसेफीन बिलिंग्स
“To the world you may be just one person but to one person you may be the world.” ‐ Josephine Billings

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment