कुलटा : राजेन्द्र यादव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Kulata : by Rajendra Yadav Hindi PDF Book – Story (Kahani)

कुलटा : राजेन्द्र यादव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Kulata : by Rajendra Yadav Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कुलटा / Kulata
Author
Category, , ,
Language
Pages 1108
Quality Good
Size 35 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : में पास जाकर खड़ा हो गया और वे उसी तरह शीशे में अपने आपको देख-देखकर हसँते रहे। सामने मेज काली सतह पर आधा कप कॉफी और खाली प्लेट रवखी थी। पास से देखी-हाँ, वही जहांगीरी ढंग की कुछ-कुछ सफेदी लिए नीची-नीची कलमें और टेलीफोन के चोंगे जैसी भारी-भारी मूछें। और इस सब काले रंग के बीच से झकझकाता लाल-सुर्ख रंग…

 

Pustak Ka Vivaran : Main Pas Jakar khada ho Gaya aur ve Usi Tarah Sheeshe mein Apane Aapako dekh-dekhakar Hasante rahe. Samane mej kali satah par aadha kap kophee aur khali Plet Rakkhi thee. Pas Se Dekhee-han, Vahi Jahangeeri Dhang kee kuchh-kuchh Saphedi lie Neechee-Neechee kalamen aur Teleephon ke chonge jaisee bhari-bhari Moochhen. Aur is sab kale Rang ke beech se Jhakajhakata laal-surkh rang……….
Description about eBook : I got up and stood up and smiled like that in the mirror. The table in front was half a cup of coffee and an empty plate on a black surface. Looked at — yes, the same Jahangiri style for some white, low-grade, and heavy bees like telephone beams. And red-ruddy color shines through all this black color ……
“महान कार्यों को पूरा करने के लिए न केवल हमें कार्य करना चाहिए बल्कि स्वप्न भी देखने चाहिए। न केवल योजना बनानी चाहिए, अपितु विश्वास भी करना चाहिए।” ‐ एनोटोले फ्रांस
“To accomplish great things, we must not only act but also dream. Not only plan but also believe.” ‐ Anatole France

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment