लक्ष्य – वेध : आचार्य नानेश द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Lakshy – Vedh : by Acharya Nanesh Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameलक्ष्य – वेध / Lakshy – Vedh
Author
Category, ,
Language
Pages 206
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जयमल का साल्विक रोष भी उभर कर गहरा हो गया। वह उनके विश्वास को बड़ा धक्का लगा था। वे हमेशा सामान्य नागरिकों की भरपूर सहायता किया करते थे और सभी वर्गों के प्रतिनिधियों का पूरा सम्मान रखते थे। इस कारण वे प्रभावशाली भी थे और जनप्रिय भी। इसी जन प्रेम के आधार पर ही उन्होंने अपनी पुत्री की घटना को सबके समक्ष रखकर………

Pustak Ka Vivaran : Jaymal ka satvik rosh bhee ubhar kar gahara ho gaya. Vah unake vishvas ko bada dhakka laga tha. Ve Hamesha samany Nagrikon kee bharapoor sahayata kiya karate the aur sabhee vargon ke pratinidhiyon ka poora samman rakhate the. Is karan ve prabhavashali bhee the aur janapriy bhee. Isi jan prem ke Aadhar par hee unhonne apani putri kee ghatana ko sabake samaksh rakhakar………..

Description about eBook : Jaimal’s satvik fury also deepened. That was a big shock to their faith. He always supported the common citizens and had full respect for the representatives of all classes. Because of this he was also influential and popular. On the basis of this public love, he put his daughter’s incident in front of everyone ………..

“मेरी बेहतरीन चाल अपने आपको ऐसे मित्रों से घेर लेने की है जो “क्यों?” पूछने के बजाय तुरंत ही कहने लगते हैं, “क्यों नहीं?” ऐसी प्रवृत्ति संक्रामक होती है।” ‐ ओप्रह विंफ़्री
“One of my best moves is to surround myself with friends who, instead of asking, “Why?” are quick to say, “Why not?”. That attitude is contagious.” ‐ Oprah Winfrey

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment