हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

लीला / Leela

लीला : श्री मैथिलीशरण गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - नाटक | Leela : by Shri Maithilisharan Gupt Hindi PDF Book - Drama (Natak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name लीला / Leela
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 114
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

लीला पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : वृद्ध हुआ मैं सही, किन्तु बल-वीर्य वही है , जिससे रक्षित मुने ! आज भी महा मही है। क्षत्रियशोणित वही नाड़ियों में बहता है, साहस या उत्साह वही मुझमें रहता है। इन हाथों के लिए कभी कुछ कठिन वहीं है, जहाँ बढ़े ये, विजय आप आ गई वहीं है। आज्ञा दीजे देव, खेल-सा कर दिखलाऊँ , निशाचरों में प्रौढ़ सूर्य की समता पाऊँ। रण के सारे खेल खेलकर बैठा हूँ मैं,………..

Leela PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Vrddh huya main sahi, Kintu bal-veery vahi hai , jisase Rakshit mune ! Aaj bhi maha mahi hai. Kshatriyashonit vahi Nadiyon mein bahata hai, sahas ya utsah vahi Mujhamen rahata hai. In Hathon ke lie kabhi kuchh kathin vaheen hai, jahan badhe ye, vijay aap aa gayi vahin hai. Aagya Deeje dev, khel-sa kar dikhalaoon , Nishacharon mein praudh soory kee samata paoon. Ran ke sare khel khelakar baitha hoon main…………

Short Description of Leela Hindi PDF Book : I have grown old, but the force and semen are the same, so that I am protected. It is still a great month. Kshatriyoshnata flows in the same channels, same courage or enthusiasm remains in me. Sometimes there is something difficult for these hands, wherever it increases, you have come there. Command God, I can show like a game, get the sun’s maturity in the nocturnals. I am sitting playing all the games of Ran, …………

 

“अपने मित्र में मुझे अपनी एक और अस्मिता दिखाई देती है।” – इसाबेल नॉर्टन
“In my friend, I find a second self.” – Isabel Norton

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment