श्री अकलंक – नाटक : सिद्धसेन जैन गोयलीय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Shri Akalank – Natak : by Siddhsen Jain Goyliya Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameश्री अकलंक – नाटक / Shri Akalank – Natak
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 104
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

श्री अकलंक – नाटक का संछिप्त विवरण : हे प्रिये ! ये कुंवर अपनी उम्र पर आ गए है और शादी योग्य हो गए है। मेरी राय तो यह है कि इन के फेरें फेरें और अपना कर्तव्य अदा करें ! नीति में भी यह बात है कि लड़के का, युवास्था प्राप्त होने पर व्याह कर देना चाहिए। स्त्री-प्राणनाथ ! मैं भी आपसे कहने को तैयार परन्तु आप के न आने से कहने को लाचार थी…….

Shri Akalank – Natak PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : He Priye ! Ye Kunvar Apani Umra par aa gaye hai aur shadi Yogy ho gaye hai. Meri Ray to Yah hai ki in ke Pheren pheren aur apana kartavy ada karen ! Neeti mein bhee yah bat hai ki ladake ka, Yuvastha prapt hone par vyah kar dena chahiye. Stri-Prananath ! Main bhee Aapase kahane ko Taiyar Parantu Aap ke na Aane se kahane ko lachar thee……….
Short Description of Shri Akalank – Natak PDF Book : Hey honey This Kunwar has come to his age and is married. My opinion is that turn these around and do your duty! It is also a matter of policy that the boy should be married upon attaining youth. Woman Prannath! I too was ready to say to you but you were helpless to say…….
“कल तो चला गया। आने वाले कल अभी आया नहीं है। हमारे पास केवल आज है। आईये शुरुआत करें।” ‐ मदर टेरेसा
“Yesterday is gone. Tomorrow has not yet come. We have only today. Let us begin.” ‐ Mother Teresa

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment