महाभारत के बाद : भुवनेश्वर उपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Mahabharat Ke Bad : by Bhuvneshvar Upadhyay Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

महाभारत के बाद : भुवनेश्वर उपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Mahabharat Ke Bad : by Bhuvneshvar Upadhyay Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name महाभारत के बाद / Mahabharat Ke Bad
Author
Category, , , ,
Language
Pages 82
Quality Good
Size 882 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कर्ण, जब सूर्यदेव के माना करने पर भी इंद्रदेव को कवच-कुंडल दान कर देता है और माता कुंती को पांडवों को न मारने का वचन देता है, तब उसका चरित्र ऊँचा उठता दिखाई देता है,साथ ही जीवन के प्रति उसकी उदासीनता भी परिलक्षित होती है। कारण, वही उपेक्षा जो उसके नाम के साथ ‘सूत’ शब्द जुड़ने से दुनिया……..

Pustak Ka Vivaran : Karn, Jab Surydev ke mana karane par bhee Indradev ko kavach-kundal dan kar deta hai aur mata kuntee ko Pandavon ko na marane ka vachan deta hai, tab usaka charitr Uncha uthata dikhayi deta hai, Sath hee jeevan ke prati usakee udaseenata bhee parilakshit hoti hai. Karan, vahee upeksha jo usake nam ke sath soot shabd judane se duniya…………

Description about eBook : Karna, even when Suryadev obeys, donates an armor-coil to Indradev and promises Mata Kunti not to kill the Pandavas, then his character appears elevated, as well as his indifference to life is reflected. is. Reason, the same neglect that the world associates with the word ‘Sut’ with its name………..

“ऐसा कोई युग कभी नहीं रहा जिसमें अतीत का गुणगान और वर्तमान पर विलाप न किया गया हो।” ‐ लिलियन आइक्लर वॉटसन
“There has never been an age that did not applaud the past and lament the present.” ‐ Lillian Eichler Watson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment