महर्षि दयानन्द सरस्वती (बाल काव्य) : चन्द्रपाल सिंह यादव ‘मयंक’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Maharshi Dayanand Saraswati (Bal Kavya) : by Chandrapal Singh Yadav ‘Mayank’ Hindi PDF Book – Poetry (Kavya)

महर्षि दयानन्द सरस्वती (बाल काव्य) : चन्द्रपाल सिंह यादव 'मयंक' द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - काव्य | Maharshi Dayanand Saraswati (Bal Kavya) : by Chandrapal Singh Yadav 'Mayank' Hindi PDF Book - Poetry (Kavya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name महर्षि दयानन्द सरस्वती (बाल काव्य) / Maharshi Dayanand Saraswati (Bal Kavya)
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 66
Quality Good
Size 548 KB
Download Status Available

महर्षि दयानन्द सरस्वती (बाल काव्य) का संछिप्त विवरण : “यदि स्वामी जी न होते, तो हिन्दुस्तान की क्या हालत होती, इसकी कल्पना भी कठिन थी। शताब्दियों के बाद ही ऐसे महापुरुष मिलते हैं। समाज में जब बुराइयां घर कर जाती हैं, तब ईश्वर ऐसी विभूतियों को भेजता है। ऐसे महापुरुष कभी मरते नहीं हैं, वे अमर रहते हैं। ” सरदार पटेल”………

Maharshi Dayanand Saraswati (Bal Kavya) PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : “Yadi Swami ji na hote, to hindustan ki kya halat hoti, iski kalpana bhi kathin thi. Shatabdiyon ke bad hi aise Mahapurush milate hain. Samaj mein jab buraiyan ghar kar jati hain, tab Ishvar aise vibhootiyon ko bhejata hai. Aise Mahapurush kabhi marate nahin hain, ve amar rahate hain. Sardar patel……..
Short Description of Maharshi Dayanand Saraswati (Bal Kavya) PDF Book : “If Swamiji had not been there, what would have been the condition of India, it was difficult to imagine. Such great men are found only after centuries. When evils take hold in the society, then God sends such personalities. Such great men never die, they remain immortal. ” Sardar Patel”…….
“आज से सौ साल बाद इन बातों का कोई मायना नहीं होगा कि मेरा बैंक खाता कैसा था, में कैसे घर में रहता था, या मेरी कार कौन सी थी। लेकिन दुनिया शायद अलग हो सकती है अगर मैं किसी बालक के जीवन में महत्त्व रखता था।” ‐ फॉरेस्ट ई विटक्राफ्ट
“A hundred years from now it will not matter what my bank account was, the sort of house I lived in, or the kind of car I drove….but the world may be different because I was important in the life of a child.” ‐ Forest E. Witcraft

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment