महात्मा शेखसादी : प्रेमचंद द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Mahatma Shekhsadi : by Premchand Hindi PDF Book

महात्मा शेखसादी : प्रेमचंद द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Mahatma Shekhsadi : by Premchand Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name महात्मा शेखसादी / Mahatma Shekhsadi
Author
Category, ,
Pages 90
Quality Good
Size 2.0 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : शेख सादी की गड़ना उन महात्माओं मे है जिन के विचारों का प्रभाव केवल ईरान ही मे नहीं वरन समस्त संसार पर पड़ा है। वह कावि थे, लेकिन ऐसे कवि जो किसी उच्च उद्देश्य को पूरा करने के लिए जन्म लेते है। उन्होने केवल काव्य प्रेमियो के मनोरंजन के निर्मित अपनी काव्य शक्ति का उपयोग नहीं किया। उनका उद्देश्य अपने भाइयों की नीति, विचार तथा। व्यवहार का संशोधन करना था और उन्होंने अपनी कविता – शक्ति सर्वस्व इसी उद्देश्य की भेंट कर दी। यदि संसार के किसी कवि के विषय में यह कहा जा सकता है कि…………….

Pustak ka Vivaran : Shekh saadee kee gadana un mahaatmaon me hai jin ke vichaaron ka prabhaav keval eeraan hee me nahin varan samast sansaar par pada hai. Vah kaavi the, lekin aise kavi jo kisee uchch uddeshy ko poora karane ke lie janm lete hai. Unhone keval kaavy premiyo ke manoranjan ke nirmit apanee kaavy shakti ka upayog nahin kiya. Unaka uddeshy apane bhaiyon kee neeti, vichaar tatha. Vyavahaar ka sanshodhan karana tha aur unhonne apanee kavita – shakti sarvasv isee uddeshy kee bhent kar dee. Yadi sansaar ke kisee kavi ke vishay mein yah kaha ja sakata hai ki…………….

Description of the book: Shaikh Saadi is one of those Mahatmas whose thoughts have had an impact not only in Iran but on the whole world. He was a poet, but a poet who is born to fulfill a higher purpose. He did not use his poetic power created only for the entertainment of poetry lovers. His aim was to follow the policies, thoughts and ideas of his brothers. The behavior had to be amended and he presented his poem – Shakti Sarvaasva for this purpose. If it can be said about any poet in the world that ………

“यदि आपने अपनी मनोवृतियों पर विजय प्राप्त नहीं की, तो मनोवृत्तियां आप पर विजय प्राप्त कर लेंगी।” ‐ नेपोलियन हिल
“If you do not conquer self, you will be conquered by self.” ‐ Napoleon Hill

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment