महफ़िल : भैरव प्रसाद गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Mahfil : by Bhairav Prasad Gupt Hindi PDF Book – Story (Kahani)

महफ़िल : भैरव प्रसाद गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Mahfil : by Bhairav Prasad Gupt Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name महफ़िल / Mahfil
Author
Category, , ,
Language
Pages 194
Quality Good
Size 5.4 MB
Download Status Available

महफ़िल का संछिप्त विवरण : गरजन की औरत गाँव-भर में ‘मिठबरोलिया! करके मशहूर थी। उसकी बोली से. जैसे मधु टपकता | छोटा हो या बड़ा, कभी भी, किसी के लिए भी उसके मुँह से कोई कड़ी बात या कुशब्द किसी ने न सुना था | उसका यह अदभुत गुण ही था कि जो भी सुनता, मुग्ध हो जाता था, कभी उसकी किसी बात पर कोई ना न करता । बड़े-बड़े लोग तो उसकी बोली का रस लेने के लिए……

Mahfil PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Garjan ki Aurat Ganv-bhar mein Mithabaroliya ! Karke Mashahoor thi. Uski boli se. Jaise madhu tapakata. Chhota ho ya bada, kabhi bhee, kisi ke liye bhi usake munh se koi kadi bat ya kushabd kisi ne na suna tha. Uska yah adbhut gun hi tha ki jo bhi sunata, mugdh ho jata tha, kabhi uski kisi bat par koi na na karata . Bade-bade log to uski bolo ka ras lene ke liye………
Short Description of Mahfil PDF Book : The roaring woman was shouting ‘Mithbrolia! It was famous. by his bid. Like honey dripping Be it big or small, no one had ever heard any harsh words or bad words from his mouth for anyone. It was this wonderful quality of his that whoever listened, was fascinated, no one ever did anything about him. Big people are there to take the juice of his bid……..
“सफलता का एक ही सूत्र है और वह जब अन्य हिम्मत हार चुके हों तो भी आप डटे रहते हैं।” ‐ विलियम फैदर
“Success seems to be largely a matter of hanging on after others have let go.” ‐ William Feather

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment