मैं वहीँ हूँ : सुनील गंगोपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Main Vahin Hun : by Sunil Gangopadhyay Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameमैं वहीँ हूँ / Main Vahin Hun
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 206
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : नदी के किनारे कुछेक भेड़िए किसी मरे हुए पशु का मांस खा रहे हैं। उनमें किसी तरह का झगड़ा नहीं हो रहा है। बीच-बीच में उनके मुँह से आनन्द की ध्वनि निकलती है, गर्रर-गरर पुरुष स्थिरता के साथ खड़ा रहा । दिन के प्रकाश में भेड़िए आमतौर से जंगल छोड़कर खुली जगह में नहों रहना चाहते हैं।अब भी सूर्य की किरणें नहीं फूटी हैं, इसीलिए वे शिकार की खोज में इस ओर रह गये हैं। थोड़ी देर बाद ही लौट जायेंगे……..

Pustak Ka Vivaran : Nadi ke kinare kuchhek bhediye kisi mare huye pashu ka mans kha rahe hain. Unamen kisi tarah ka jhagada nahin ho raha hai. Beech-beech mein unake munh se Aanand ki dhvani Nikalati hai, garrar-garar Purush Sthirata ke sath khada raha . Din ke prakash mein bhediye Aamtaur se jangal chhodkar khuli jagah mein nahon rahana chahate hain. Ab bhi Sury ki kiranen nahin phooti hain, isiliye ve shikar ki khoj mein is or rah gaye hain. Thodi der bad hi laut jayenge……….

Description about eBook : A few wolves are eating the flesh of a dead animal on the banks of the river. There is no quarrel between them. The sound of joy emanates from their mouths in between, and the man stood with stability. In the light of day, wolves usually want to leave the forest and live in open spaces. Even now the rays of the sun have not erupted, so they have remained on this side in search of prey. Will come back after a while……

“जीवन में अपने आपके सुधार (शारीरिक और मानसिक, दोनों) को पहली प्राथमिकता दें।” -रॉबिन नार्वुड
“Make your own recovery (physical and mental, both) the first priority in your life.” – Robin Norwood

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment