मतदान केन्द्र पर झपकी : केदारनाथ सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Matdan Kendra Par Jhapki : by Kedarnath Singh Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

मतदान केन्द्र पर झपकी : केदारनाथ सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कविता | Matdan Kendra Par Jhapki : by Kedarnath Singh Hindi PDF Book - Poem (Kavita)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मतदान केन्द्र पर झपकी / Matdan Kendra Par Jhapki
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 76
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : ‘उठो कि धूप हो गई ठंडी तुम्हें बुलाती सब्जी मंडी सुनो कि कया कहती है ‘चिड़िया’ कल पली का ब्रत है पिड़िया देर करो मत, ले लो यैला आसमान हो चला धुमैला हवा अगर कम है साइकिल में रखो भरोसा अपने दिल में बिना हवा के देश की साइकिल चली जा रही-क्या है मुश्किल पहुँचा……

Pustak Ka Vivaran : Utho ki dhoop ho gayi thandi tumhen bulati sabji Mandi suno ki kaya kahti hai chidiya kal pali ka brat hai pidiya der karo mat, le lo thaila Aasman ho chala dhumaila hava agar kam hai cycle mein rakho bharosa apane dil mein bina hava ke desh ki cycle chali ja rahi-kya hai mushkil pahuncha………

Description about eBook : Get up that the sun has turned cold, the vegetable market is calling you, listen to what the bird says, tomorrow is the birth of the bird, do not delay, take the bag, the sky becomes cloudy, if the air is less, keep in the cycle, trust in your heart a country without air The cycle is going off – what is the difficulty ………

“मुझे अधिक संबंध इस बात से नहीं है कि आप असफ़ल हुए, बल्कि इस बात से कि आप अपनी असफलता से कितने संतुष्ट है।” अब्राहम लिंकन
“My great concern is not whether you have failed, but whether you are content with your failure.” Abraham Lincoln

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment