मेरे कुछ मौलिक विचार : आचार्य किशोरीदास वाजपेयी द्वारा द्वारा हिंदी पीडीऍफ पुस्तक | Mere Kuch Maulik Vichar : by Acharya Kishoridas Vajpayee Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मेरे कुछ मौलिक विचार / Mere Kuch Maulik Vichar
Author
Category,
Language
Pages 178
Quality Good
Size 4.6 MB
Download Status Available

मेरे कुछ मौलिक विचार पुस्तक का कुछ अंश : आचार्य किशोरीदास वाजपेयी के ‘कुछ मौलिक विचार’ मेरे सामने हैं| मौलिक अर्थात स्वतंत्र चिन्तन से उदभूत विचार | विचार तब मौलिक नहीं रहते हैं, जब वे दुसरे को चाहे जिस प्रकार अभिभूत करने के लिए, अथवा अमुक हेतु से प्रेरित होकर या दूसरों को प्रसन्‍न करने के लिए अभिव्यक्त होते हैं…….

Mere Kuch Maulik Vichar PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Acharya Kishoridas Vajpayee ke kuchh maulik vichaar mere samne hain. maulik arthaat svatantra chintan se udabhoot vichaar. vichaar tab maulik nahin rahate hain, jab ve dusare ko chaahe jis prakaar abhibhoot karane ke lie, athava amuk hetu se prerit hokar ya doosaron ko prasann karane ke lie abhivyakt hote hain………….
Short Passage of Mere Kuch Maulik Vichar Hindi PDF Book : Acharya Kishoridas Vajpayee’s ‘some fundamental ideas’ are in front of me. Idea from fundamental means independent thinking. Thoughts are not fundamental, when they express themselves to be overwhelmed by others, or to be motivated by reason or to please others…………..
“अज्ञानी व्यक्ति वह प्रश्न पूछते हैं जिनका उत्तर समझदार व्यक्तियों द्वारा एक हजार वर्षों पहले दे दिया गया होता है।” ‐ गोएथ
“Ignorant men raise questions that wise men answered a thousand years ago.” ‐ Goethe

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment