मिस्टर तिवारी का टेलीफोन : सरयू पण्डा गौड़ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Mister Tiwari Ka Teliphone : by Saryu Panda Gaud Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

मिस्टर तिवारी का टेलीफोन : सरयू पण्डा गौड़ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Mister Tiwari Ka Teliphone : by Saryu Panda Gaud Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मिस्टर तिवारी का टेलीफोन / Mister Tiwari Ka Teliphone
Author
Category, , , ,
Language
Pages 140
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

मिस्टर तिवारी का टेलीफोन का संछिप्त विवरण : उस दिन हमारे घर हमारे घोर दुर्भाग्य से कुछ मेहमान सज्जन आ गये थे। ये मेहमान सज्जन क्या बला हैं और इनके शुभागमन से कैसी दुर्गति घर वालों को उठानी पड़ती हैं, इसकी हालत उस गरीब से पूछो जिसका घर महीने में पन्द्रह बार इस भलेमानसों के कदम-मुबारक से आबाद नहीं बर्बाद होता है । मेहसान क्या आये, गरीब की शामत आयी। दोनों जून “पराठे……..

Mister Tiwari Ka Teliphone PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Us Din hamare ghar hamare ghor durbhagy se kuchh mehman sajjan aa gaye the. Ye Mehman sajjan kya bala hain aur inake shubhagaman se kaise durgati ghar valon ko uthani padati hain, isaki halat us gareeb se poochho jisaka ghar mahine mein pandrah bar is bhalemanason ke kadam-mubarak se Aabad nahin barbad hota hai .  Mehman kya aaye, gareeb ki shamat aayi. Donon joon “Parathe ”…….
Short Description of Mister Tiwari Ka Teliphone PDF Book : On that day some guest gentlemen had come to our house from our terrible misfortune. What is the problem of this guest gentleman, and what kind of degradation do the housemates have to take up with them, ask the condition of the poor whose house is not ruined fifteen times in a month due to the move of this good man. What did Mehsan come, poor man’s evening came. Both June “Parathas” …….
“कोई काम शुरू करने से पहले, स्वयं से तीन प्रश्न पूछिए – मैं यह क्यों कर रहा हूं, इसके परिणाम क्या हो सकते हैं और क्या मैं सफल हो पाऊंगा। जब गहराई से सोचने पर इन प्रश्नों के संतोषजनक उत्तर मिल जायें, तब आगे बढ़ें।” चाणक्य
“Before you start some work, always ask yourself three questions – Why am I doing it, What the results might be and Will I be successful. Only when you think deeply and find satisfactory answers to these questions, go ahead.” Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment