मृच्छकटिक : धीरेन्द्र वर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Mricchkatik : by Dheerendra Verma Hindi PDF Book

Book Nameमृच्छकटिक / Mricchkatik
Author
Category, ,
Language
Pages 214
Quality Good
Size 33 MB
Download Status Available

मृच्छकटिक का संछिप्त विवरण : मृच्छकटिक का अर्थ है मिट्टी की गाड़ी। आधुनिक साहित्य मे भी पुस्तक का ऐसा शीर्षक रखा जाता है। मृच्छकटिक संस्कृत का नाटक है। इसमे दो भाषाओं का प्रयोग है, जैसा की प्रायः और संस्कृत के नाटकों मे है । राजा, ब्राह्मण और पढ़े लिखे लोग संस्कृत बोलते है, और स्त्रियाँ और नीचे तब के लोग प्राकृत…….

Mricchkatik PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Mrchchhakatik ka arth hai Mitti ki Gadi. Aadhunik Sahitya me bhi pustak ka aisa Sheershak rakha jaata hai. Mrchchhakatik sanskrit ka Natak hai. Isame do bhashaon ka Prayog hai, Jaisa ki praayah aur sanskrit ke Natakon me hai . raaja, braahman aur padhe likhe log sanskrt bolate hai, aur striyaan aur niche tab ke log praakrt………….
Short Description of Mricchkatik PDF Book : Mricchkatik means the clay cart. In the modern literature, the title of the book is also kept. Mricchkatik is the play of Sanskrit. It has the use of two languages, as is often in Sanskrit and plays. Raja, Brahmin and the people who read are speaking Sanskrit, and women and women of the lower classes are Prakrit…………..
“यदि आप दूसरों की मदद कर सकते हैं, तो अवश्य करें; यदि वह नहीं कर सकते तो कम से कम उन्हें नुकसान नहीं पहुंचाएं।” दलाई लामा
“If you can, help others; if you cannot do that, at least do not harm them.” Dalai Lama

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment