मुझे मोक्ष नहीं चाहिए : रणजीत सिंह कूमट द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Mujhe Moksh Nahi Chahie : by Ranjeet Singh Kumat Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameमुझे मोक्ष नहीं चाहिए / Mujhe Moksh Nahi Chahie
Author
Category, ,
Language
Pages 154
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : प्रश्न उठता है कि समाधि और मोक्ष से यदि हूरें और परियां या देवियां जन्नत में मिलने वाली हैं तो में उनको यही क्यों न प्राप्त कर लू? यदि देवियों और धनधान्य आदि में रमण करना ही सुख है तो संस्तारिक वस्तुओं से क्या दुख हो सकता है? मोक्ष पाकर भी क्या करूँगा ? अशरीरी, अरूपी होकर निष्क्रिय हो जाने में भी क्या लाभ है……..

Pustak Ka Vivaran : Prashv uthata hai ki samadhi aur moksh se yadi hooren aur pariyan ya deviyan Jannat mein milane vali hain to mein unako yahi k‍yon na prapt kar loo? Yadi Deviyon aur dhanadhany aadi mein Raman karana hi sukh hai to Sanstarik Vastuon se kya dukh ho sakata hai? Moksh Pakar bhi kya karunga ? Ashareeri, Aroopee hokar Nishkriy ho jane mein bhi kya labh hai…………

Description about eBook : The question arises that if there are hurries and fairies or goddesses to be attained in paradise through samadhi and moksha, then why should I not receive them? If it is pleasure to indulge in goddesses and wealth etc. then what can be hurt by worldly things? What will I do after attaining salvation? What is the benefit of being idle, idle and inactive even …………

“मुझे यकीन है कि सफल और असफल उद्यमियों में आधा फर्क तो केवल अध्यवसाय का ही है।” ‐ स्टीव जॉब्स
“I’m convinced that about half of what separates the successful entrepreneurs from the non-successful ones is pure perseverance.” ‐ Steve Jobs

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment