नैतिक जीवन : श्री रघुनाथ प्रसाद पाठक द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Naitik Jeewan : by Shri Raghunath Prasad Pathak Hindi PDF Book – Social (Samajik)

नैतिक जीवन : श्री रघुनाथ प्रसाद पाठक द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Naitik Jeewan : by Shri Raghunath Prasad Pathak Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name नैतिक जीवन / Naitik Jeewan
Author
Category, ,
Language
Pages 153
Quality Good
Size 10.38 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सूर्य नित्य पूर्व से निकलता और पश्चिम में डूबता है। दिन के बाद रात और रात के बाद दिन नियम से होता है। आम के वृक्ष पर सेब और सेब के वृक्ष पर आम नहीं लगता। आंख से सुनने और कान काम नहीं लिया जा सकता। मनुष्य से घोड़े का और घोड़े से मनुष्य का जन्म नहीं होता। जो जन्म लेता है वह अवश्य मरता है। प्राणियों की बुद्धि, कार्य-क्षमता……..

Pustak Ka Vivaran : Sury Nity Poorv se Nikalata aur Pashchim mein doobata hai. Din ke bad Rat aur Rat ke bad din Niyam se hota hai. Aam ke vrksh par seb aur seb ke vrksh par Aam nahin lagata. Aankh se sunane aur kan kam nahin liya ja sakata. Manushy se Ghode ka aur ghode se manushy ka janm nahin hota. Jo janm leta hai vah avashy marata hai. Praniyon ki Buddhi, kary-kshamata……….

Description about eBook : The sun rises from the east and sinks in the west. The rule follows night after night and day after night. Mangoes are not found on the mango tree and on the apple tree. Eye-hearing and ear-work cannot be taken. Man is not born of horse and man is born of horse. He who is born must die. Wisdom, efficiency of beings……….

“ऐसे सभी व्यक्ति जिन्होंने महान उपलब्धियां हासिल की हैं, वह महान स्वप्नदृष्टा भी होते हैं।” ‐ ओरिसन स्वैट मार्डेन
“All men who have achieved great things have been great dreamers.” ‐ Orison Swett Marden

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment