नानक दुखिया सब संसार : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Nanak Dukhiya Sab Sansar : Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Nameनानक दुखिया सब संसार / Nanak Dukhiya Sab Sansar
Author
Category, , ,
Language
Pages 96
Quality Good
Size 1.2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : नहीं है लेकिन है तो, और उसकी खोज कर रहा है। कोई फ्रायड है और वह सपने की जीवन लगा रहा है, और साइंस खड़ी कर रहा है। इसको वह कहेंगे अविद्या, सपने ऐसी चीज की खोज हे जो है नहीं। तो विज्ञान के दो हिस्से हैं विद्या और अविद्या। नह परम ही बात है। हां, सपना जब होता है तो बिल्कुल ही होता है। हां, बिल्कुल ही हो में नहीं होता है। तब भी सपना ही होता है। यानी तब भी सपना ही होता……….

Pustak Ka Vivaran : Nahin hai lekin hai to, aur usaki khoj kar raha hai. koi phrayad hai aur vah sapane ki jeevan laga raha hai, aur sains khadi kar raha hai. Isko vah kahenge avidya, sapane ka aisi cheej ki khoj hai jo hai nahin. to vigyan ke do hisse hain vidya aur avidya. nah param hee bat hai. haan, sapana jab hota hai to bilkul hi hota hai. Han, bilkul hi ho mein nahin hota hai. tab bhi sapana hi hota hai. yani tab bhi sapana hi hota hai…….

Description about eBook : is not but is so, and is searching for it. Somebody is Freud and he is living a life of dreams, and he is creating science. He would call this avidya, the search for something that is not there. So there are two parts of science, Vidya and Avidya. No, that’s the only thing. Yes, when a dream happens, it absolutely happens. Yes, it doesn’t happen at all. Even then it is a dream. That is, even then it is only a dream………..

“यदि आप तर्क करते हैं तो अपने मिज़ाज (गुस्से) का ध्यान रखें। आपका तर्क, यदि आपके पास कोई है, स्वयं इसकी देखभाल कर लेगा।” जोसेफ फेर्रेल
“If you go in for argument, take care of your temper. Your logic, if you have any, will take care of itself.” Joseph Farrell

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment