नाटकों के देश में : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Natakon Ke Desh Mein : Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameनाटकों के देश में / Natakon Ke Desh Mein
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 238
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

नाटकों के देश में का संछिप्त विवरण : तुम फिर यहां खुराफात करने आ गये । मैंने तुम्हें कितनी बार कहा है कि अपने बिल्लाबोंग के आसपास रहो, नहीं तो मैं तुम्हें तड़ी पार कर दूंगा। भागो यहां से | ये शरीफ लोग अभी-अभी इंग्लैंड से यहां आये हैं। तुम्हें इन्हें भोजन पर बुलाना चाहिए या इन्हें अपना भोजन बनाना चाहिए ? अब यहां से नौ दो ग्यारह हो जाओ वरना मैं तुम्हें श्रोताओं के बीच फेंक दूंगा…….

Natakon Ke Desh Mein PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Tum Phir Yahan khuraphat karane aa gaye . Mainne Tumhen kitani bar kaha hai ki Apane Billabong ke Aas Pas raho, nahin to main Tumhen Tadi par kar dunga. Bhago yahan se. Ye Shareeph log Abhi-Abhi England se yahan aaye hain. Tumhen inhen bhojan par bulana chahiye ya inhen apana bhojan banana chahiye ? Ab Yahan se nau do gyarah ho jayo varana main Tumhen shrotaon ke beech phenk dunga………..
Short Description of Natakon Ke Desh Mein PDF Book : You came here again to do a crime. How many times have I told you to stay around your Billabong, otherwise I will cross you a little. Run from here These Sharif people have just come here from England. Should you call them on food or make them your meal? Now get from here to nine or eleven or else I will throw you among the audience ………
“बीस साल की उम्र में इंसान अपनी मर्ज़ी से चलता है, तीस में बुद्धि से और चालीस में विवेक से।” बेंजामिन फ्रैंकलिन
“At twenty years of age the will reigns; at thirty, the wit; and at forty, the judgment.” Benjamin Franklin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment