पक्का कदम : बर्दी केर्बाबायेव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Pakka Kadam : by Bardi Kerbabaev Hindi PDF Book – Story (Kahani)

पक्का कदम : बर्दी केर्बाबायेव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Pakka Kadam : by Bardi Kerbabaev Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पक्का कदम / Pakka Kadam
Author
Category, , , ,
Language
Pages 258
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : एक समय मुझे जेल से मुक्त करने का प्रश्न पर अंग्रेज गर्वतर के विरोध करले का कारण यू० पी० की कॉग्रेसी सरकार को बहुत परेशानी उठानी पड़ी थी। मेरी रिहाई का प्रश्न सिद्धांत की रक्षा का प्रश्न बल गया था। क्‍योंकि उस समय काँग्रेसी सरकार को विश्वास था कि अंग्रेज सरकार का कोपभजन मुझे राष्ट्रिय भावला के कारण बनता पड़ा है। आज मेरे विचार, प्रयत्न और सार्वजनिक…….

Pustak Ka Vivaran : Ek Samay Mujhe jel se Mukt karane ka prashn par Angrej Garvnor ke virodh karane ka karan UP ki Cangresi sarakar ko bahut pareshani uthani padi thee. Meri Rihai ka prashn siddhant ki raksha ka prashn ban gaya tha. Kyonki us samay Cangresi sarkar ko vishvas tha ki Angrej sarkar ka kopabhajan mujhe Rashtriy bhavana ke karan banana pada hai. Aaj mere vichar, prayatn aur sarvajanik…..

Description about eBook : At one time, the Congress Government of UP had to face a lot of trouble due to the opposition of the British Governor on the question of releasing me from jail. The question of my release had become a question of defense of principle. Because at that time, the Congress Government believed that I had to be angry because of the national spirit of the British Government. Today my thoughts, efforts and public ……

“व्यक्ति अपने विचारों का ही परिणाम है – जैसा वह सोचता है, वैसा वह बनता है।” ‐ गांधी
“A man is but the product of his thoughts – what he thinks, he becomes.” ‐ Gandhi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment