एक कदम आगे : ममता कालिया द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Ek Kadam Aage : by Mamata Kaliya Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameक कदम आगे / Ek Kadam Aage
Author
Category, , , ,
Language
Pages 189
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

क कदम आगे पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : जब-जब कोई बात बहुत अच्छी या बहुत बुरी लगती है, तब- तब कहानी को शुरुआत होती है। जब जब कुछ अच्छा लग जाता है, मन सुमन बन जाता है, जब जब कुछ नागवार गुजरता है, मन में बडी भीषण भडभडाहट उठती है जैसे पुल पर से रेल घडघडाती निकल जाती है, जैसे घुटने पर रख कर सूखी लकडी तोडी जाती है, जैसे आँधी मे किवांड भडभडाते उठते हैं………

Ek Kadam Aage PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jab-Jab Koi bat bahut Achchhee ya bahut buri Lagati hai, tab- tab kahani ko shuruat hoti hai. Jab Jab Kuchh Achchha lag jata hai, man Suman ban jata hai, Jab Jab kuchh Nagvar Gujarata hai, man mein badi bheeshan bhadabhadahat uthati hai Jaise pul par se rel Ghadaghadati nikal Jati hai, jaise ghutane par rakh kar sookhee lakadi Todi Jati hai, Jaise Aandhi me kivand bhadabhadate uthate hain…………

Short Description of Ek Kadam Aage Hindi PDF Book : Whenever something seems good or very bad, then the story begins. When something looks good, the mind becomes silent, when some exasperation passes, a huge grunt erupts in the mind as the rail comes out of the bridge, like a dry wood is put on the knee, like The winds rise in the storm …………

 

“जीवन अपना प्रभाव डालने के बारे में है, केवल जीविका अर्जन नहीं। ” – केविन क्रूज़
“Life is about making an impact, not making an income.” – Kevin Kruse

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment