प्रभात कुमार मुखर्जी की कहानियाँ : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Prabhat Kumar Mukharji Ki Kahaniyan : Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameप्रभात कुमार मुखर्जी की कहानियाँ / Prabhat Kumar Mukharji Ki Kahaniyan
Category, , , , ,
Language
Pages 224
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

प्रभात कुमार मुखर्जी की कहानियाँ पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : पौष महीने की लम्बी रात किसी भी तरह समाप्त होना नहीं चाहती। इतने में उमाप्रसाद
की नींद टूट गई। उसने लोई में टटोल कर देखा तो पत्नी नहीं है। बिछौने पर हाथ फैलाकर देखा कि उसकी
पत्नी एक तरफ गठरी हुई पड़ी सो रही है। उसने सरककर सावधानी से उसके शरीर पर लोई ओढ़ा दी। बगल
और पैरों की तरफ हाथ से.

Prabhat Kumar Mukharji Ki Kahaniyan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Paush Mahine ki Lambi Rat kisi bhi tarah samapt hona nahin chahati. Itne mein Umaprasad kee neend toot gayi. Usne loi mein tatol kar dekha to Patni nahin hai. Bichhaune par hath phailakar dekha ki uski Patni ek taraph gathari huyi padi so rahi hai. Usne sarakkar savdhani se uske shareer par loi odha di. Bagal aur pairon ki taraph hath se……….

Short Description of Prabhat Kumar Mukharji Ki Kahaniyan Hindi PDF Book : Paush does not want the long night of the month to end in any way. In this, Umaprasad’s sleep was broken. He looked into the dough and saw that there is no wife. Spreading his hand on the bed, he saw that his wife was sleeping lying on one side. He slid carefully and covered his body with a ball. With hand towards armpits and feet…………

 

“जिंदगी का मेरा सूत्र बहुत ही सरल है। मैं सुबह जागता हूं तथा रात को सो जाता हूं। इसके बीच में मैं जितना हो सके स्वयं को व्यस्त रखता हूं।” ‐ केरी ग्रांट
“My formula for living is quite simple. I get up in the morning and I go to bed at night. In between, I occupy myself as best I can.” ‐ Cary Grant

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment