प्रदूषण रोधी वृक्ष : विष्णुदत्त शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Pradushan Rodhi Vriksh : by Vishnudatt Sharma Hindi PDF Book – Social (Samajik)

प्रदूषण रोधी वृक्ष : विष्णुदत्त शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Pradushan Rodhi Vriksh : by Vishnudatt Sharma Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name प्रदूषण रोधी वृक्ष / Pradushan Rodhi Vriksh
Author
Category, ,
Pages 144
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

प्रदूषण रोधी वृक्ष का संछिप्त विवरण : समस्त संसार ने यज्ञों को स्वीकारा है और संसार के सभी सम्प्रदायों में ये अब तक प्रचलित है प्राचीन समय में न केवल भारत में बल्कि ग्रीक तथा रोम में भी यज्ञ प्रचलित थे। जैनियों में धूप दीप ‘यज्ञ’ का ही अवशिष्ट और सूक्ष्म रूप है। यहूदियों में भी ऊदबत्ती और लोबान आदि जलाने की प्रथा आज भी मौजूद है। चीन वाले यज्ञ (हवन या होम) को धोम कहते है…..

Pradushan Rodhi Vriksh PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran :  Samast Sansar ne Yagyon ko Svikara hai aur Sansar ke sabhi Sampradayon mein ye Ab Tak Prachalit hai Pracheen Samay mein na keval Bharat mein balki Greek tatha rom mein bhee yagy prachalit the. Jainiyon mein dhoop deep yagy ka hee avashisht aur sookshm roop hai. Yahoodiyon mein bhee Udabatti aur Lohban Aadi jalane kee Pratha Aaj bhee Maujood hai. Cheen Vale Yagy (Hawan ya hom) ko dhom kahate hai………
Short Description of Pradushan Rodhi Vriksh PDF Book : The whole world has accepted Yajna and it is still prevalent in all the communities of the world. In ancient times, Yajna was practiced not only in India but also in Greek and Rome. In Jains, Dhoop Deep is the residual and subtle form of ‘Yajna’. The practice of burning otter and frankincense etc. is present even among the Jews. The yagya (havan or home) of China is called dhom ……
“खुशी का वास्तविक रहस्य निम्नलिखित है: जीवन जीने और जीने देने का उत्साह, तथा अपने मन में यह स्पष्ट आभास कि झगड़ालू व्यक्ति होना एक अक्षम्य अपराध है।” गैलेन स्टार्र रोस्स
“The real secret of happiness is simply this: to be willing to live and let live, and to know very clearly in one’s own mind that the unpardonable sin is to be an unpleasant person.” Galen Starr Ross

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment