प्रकाश : गोविन्द दास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Prakash : by Govind Das Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameप्रकाश / Prakash
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 220
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

प्रकाश का संछिप्त विवरण : छोटी-सी दुकान है। तीन ओर दीवालें दिखती है। दो ओर की देवालों के सिरों पर थोड़ा- थीड़ा स्थान आने-जाने के लिए खुला है। तीनों दीवालों का शेष स्थान बिना दरवाजों की अलमारियों से भरा है, जिनमे चीनी-मिट्टी के बर्तन सजे है। दुकान के बीच में, एक छोटी-सी स्टूल पर, एक वृद्ध मनुष्य बैठा है। उसके सिर पर छोटे-छोटे सफ़ेद बाल और पत्नी……

Prakash PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Chhoti-si Dukan hai. Teen or Deevalen dikhati hai. Do or ki Devalon ke siron par thoda-thoda sthan Aane-jane ke liye khula hai. Teenon deevalon ka shesh sthan bina daravajon kee Alamariyon se bhara hai, jiname chine-mitti ke bartan saje hai. Dukan ke beech mein, ek chhoti-si stool par, ek vrddh manushy baitha hai. Usake sir par chhote-chhote safed bal aur Patni………..
Short Description of Prakash PDF Book : There is a small shop. There are walls on three sides. A little space at the ends of the two side walls is open for movement. The remaining space of the three walls is filled with shelves without doors, in which porcelain ware is adorned. In the middle of the shop, on a small stool, an old man is sitting. Short white hair and wife on his head ……….
“आयु आपकी सोच में है। जितनी आप सोचते हैं उतनी ही आपकी उम्र है।” ‐ मुहम्मद अली
“Age is whatever you think it is. You are as old as you think you are.” ‐ Muhammad Ali

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment