प्रतिमान (पुराने प्रेमचंद के जरिये नया पाठ) : चंदन श्रीवास्तव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Pratiman (Purane Premchand Ke Jariye Naya Path) : by Chandan Shrivastav Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)

प्रतिमान (पुराने प्रेमचंद के जरिये नया पाठ) : चंदन श्रीवास्तव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - पत्रिका | Pratiman (Purane Premchand Ke Jariye Naya Path) : by Chandan Shrivastav Hindi PDF Book - Magazine (Patrika)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name प्रतिमान (पुराने प्रेमचंद के जरिये नया पाठ) / Pratiman (Purane Premchand Ke Jariye Naya Path)
Author
Category, ,
Language
Pages 10
Quality Good
Size 4.7 MB
Download Status Available

प्रतिमान (पुराने प्रेमचंद के जरिये नया पाठ) पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : अस्मितापरक आंदोलन की वैचारिकी के भीतर प्रेमचंद की छवि किन रंग-रेखाओं से उकेरी जा रही है उसका एक बेहतर उदाहरण रल्नकुमार साँभरिया का आलेख “दलित, प्रेमचंद, तुलसीदास
और शहीद भगतसिंह’ हो सकता है। लेख में प्रेमचंद के शब्द-संसार की चुनिंदा पंक्तियों के आधार पर साबित किया गया है कि वे “ग्राम्य जीवन और लोक परम्पराओं से नितांत अनभिज्ञ थे……….

 

Pratiman (Purane Premchand Ke Jariye Naya Path) PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Asmitaparak Aandolan ki Vaichariki ke bheetar Premachand ki chhavi kin Rang-Rekhayon se ukeri ja rahi hai uska ek behatar udaharan Ratnakumar sanbhariya ka Aalekh “Dalit, Premchand, Tulasidas aur Shaheed Bhagat Singh ho sakata hai. Lekh mein Premchand ke shabd-sansar ki chuninda panktiyon ke Aadhar par sabit kiya gaya hai ki ve “Gramy jeevan aur lok Paramparaon se Nitant Anabhigy the………

Short Description of Pratiman (Purane Premchand Ke Jariye Naya Path) Hindi PDF Book : A better example of the lines from which Premchand’s image is being carved within the ideology of the identity movement can be the article “Dalit, Premchand, Tulsidas and Shaheed Bhagat Singh” by Ratnakumar Sambharia. In the article, on the basis of selected lines of Premchand’s word-world, it has been proved that he was “totally ignorant of rural life and folk traditions……..

 

“स्वयं पर विजय प्राप्त कर लेना सबसे श्रेष्ठ और महानतम विजय होती है।” ‐ प्लैटो
“To conquer oneself is the noblest and greatest triumph.” ‐ Plato

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment