राजनारायण मिश्र की आत्म कथा : राजनारायण मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Rajnarayan Mishr Ki Aatmkatha : by Rajnarayan Mishra Hindi PDF Book – History (Itihas)

राजनारायण मिश्र की आत्म कथा : राजनारायण मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - इतिहास | Rajnarayan Mishr Ki Aatmkatha : by Rajnarayan Mishra Hindi PDF Book - History (Itihas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name राजनारायण मिश्र की आत्म कथा / Rajnarayan Mishr Ki Aatmkatha
Author
Category,
Language
Pages 88
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : नजरबंदी के दौरान में ही में सन १९४३ की १६ वीं जुलाई को लखनऊ-बाराबंकी पड़यंत्र के सम्बन्ध में फ़तेहगढ़ सेन्ट्रल जेल से जिला जेल लखनऊ लाया गया | यहीं पर मेरा शहीद राज-नारायण मिश्र से, अप्रत्यक्ष रूप से, पत्रों द्वारा परिचय हुआ | मेरे पहले राजनारायण जी का और जोगेश चटर्जी का पत्र व्यवहार होता था………

Pustak Ka Vivaran : Najarbandi ke dauran mein hi main san 1943 kee 16 veen julai ko lakhanu-barabanki padayantr ke sambandh mein Fatehgadh sentral jel se jila jel lakhanu laya gaya. Yahin par mera shahid raaj-Narayan mishr se, apratyaksh rup se, patron dwara parichay hua. Mere pahle Rajnarayan ji ka aur Jogesh chatarji ka patr vyavahar hota tha………..

Description about eBook : During the detention, I was brought from Fatehgarh Central Jail to Lucknow-Barabanki regime on July 16, 1943, in Lucknow district. This is where my martyr Raj-Narayan Mishra was introduced indirectly by letters. Before me, the letter of Rajnarayan ji and Jogesh Chatterjee was used to behave……………..

“आप जितना हो सके उतने चतुर बनें, लेकिन याद रखें कि विवेकी होना चतुर होने से हमेशा बेहतर है।” एलेन एल्डा
“Be as smart as you can, but remember that it is always better to be wise than to be smart.” Alan Alda

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment