राजनारायण मिश्र की आत्म कथा : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Rajnarayan Mishr Ki Aatm Katha : Hindi PDF Book

Book Nameराजनारायण मिश्र की आत्म कथा / Rajnarayan Mishr Ki Aatm Katha
Author
Category,
Language
Pages 88
Quality Good
Size 1315 KB
Download Status Available

राजनारायण मिश्र की आत्म कथा का संछिप्त विवरण : मेरा जन्म 1976 के माघ महीने में बसंत पंचमी के दिन हुआ था। मेरे पिता गरीब थे, लेकिन कनौजिया ब्राह्मण परसु के मित्र थे। इस कारण उन्होंने शादी कर ली, नहीं तो वे अपनी बेटियों की शादी कर लेते। मैं एक अमीर आदमी हूँ। इनके पास जमींदार भी है…………

Rajnarayan Mishr Ki Aatm Katha PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Mera janm sambat 1976 ke magh mah mein basant panchami ke din hua. Mere pitaji garib the, kintu Kanojiya brahman parasu ke mitr the. Isi karan unki shadi ho gai, nahin to garib ke sath apni kanya kon byahta. Mere nanihal vaale sampann vyakti hai. Unke paas jamidari bhi hai……………………..
Short Description of Rajnarayan Mishr Ki Aatm Katha PDF Book : I was born on the day of Basant Panchami in Magh month of 1976. My father was poor, but Kanojia was a friend of Brahmin Parasu. For this reason, they got married, otherwise they would marry their daughters. I am a rich man. They also have landlord……………………………
44 Books पर
“अगर एक व्यक्ति को मालूम ही नहीं कि उसे किस बंदरगाह की ओर जाना है, तो हवा की हर दिशा उसे अपने विरुद्ध ही प्रतीत होगी।” सेनेका
“If a man does not know to which port he is steering, no wind is favourable to him.” Seneca

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment