रस तन्त्र सार व सिद्ध प्रयोग संग्रह द्वितीय खण्ड : कृष्ण गोपाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Ras Tantra Sar va Siddh Prayog Sangrah Vol – 2 : by Krishan Gopal Hindi PDF Book – Granth

Book Nameरस तन्त्र सार व सिद्ध प्रयोग संग्रह द्वितीय खण्ड / Ras Tantra Sar va Siddh Prayog Sangrah Vol – 2
Author
Category, , ,
Language
Pages 532
Quality Good
Size 25 MB
Download Status Available

रस तन्त्र सार व सिद्ध प्रयोग संग्रह द्वितीय खण्ड का संछिप्त विवरण : यह पाउडर एक प्रकार की विशुद्ध स्वर्ण भस्म है | इसमें तेजाब का कुछ भी अंश नहीं रहता | इसका प्रयोग बर्क के स्थान पर हम करते रहते है | बाजार से लाया हुआ बर्क हुआ बारक भी कुछ इतर “धातु के मिश्रण वाला होता है यदि बारक बनाने वाले गड़बड़ी की हो, तो औषधि अति न्यून गुण वाली बन जाती है | बक वजन में कुछ कम….

Ras Tantra Sar va Siddh Prayog Sangrah Vol – 2 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Yah paudar ek prakar ki vishuddh svarn bhasm hai. Isamen tejab ka kuchh bhi ansh nahin rahata. isaka prayog bark ke sthan par ham karate rahate hai. Bajar se laya huya bark  huya barak bhi kuchh itar dhatu ke mishran vala hota hai  yadi barak banane vale gadabadi ki ho, to aushadhi ati nyoon gun vali ban jati hai. Bark vajan mein kuchh kam………….
Short Description of Ras Tantra Sar va Siddh Prayog Sangrah Vol – 2 PDF Book : This powder is a type of pure gold. There is no fraction of acid in it. We use this instead of Burke. Burke bark brought from the market is also a mixture of some other ‘metal’, if the barking is made of disturbances, the medicine becomes very low quality. Burke is a little less in weight…………
“केवल वही व्यक्ति जो बहुत दूर तक जाने का जोखिम उठाते हैं, संभवत वही व्यक्ति ही यह जान पाते हैं कि वह कितनी दूर तक जा सकते हैं।” ‐ टी.एस. एलियट
“Only those who will risk going too far can possibly find out how far one can go.” ‐ T.S. Eliot

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment