रस तंत्र सार व सिद्ध प्रयोग संग्रह खण्ड-1 : हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक – सामाजिक | Ras Tantra Sar V Siddh Prayog Sangrah Khand – 1 : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameरस तंत्र सार व सिद्ध प्रयोग संग्रह खण्ड-1 / Ras Tantra Sar V Sidh Prayog Sangrah Khand-1
Category, ,
Language
Pages 922
Quality Good
Size 52.2 MB
Download Status Available
चेतावनी यह पुस्तक केवल शोध कार्य के लिए है| इस पुस्तक से होने वाले परिणाम के लिए आप स्वयं उत्तरदायी होंगे न कि 44Books.com

पुस्तक का बिबरण : प्रस्तुत ग्रन्थ “रसतन्जसार ब सिद्धप्रयोगसग्रह” को संशोधित एवं परिबद्धित दबितीय संस्करण है। अनेक अवशिष्ट बातों के साडगोपाडग विवेचन का समावेश करने से अब यह ग्रंथ प्रथमाबृत्ति से लगभग दूना हो गया है। सरल हिंदी भाषा में प्रायः सभी बातें भलीभांति समझा कर लिख दी गई हैं | इतना होने पर भी मृल्य में विशेष वृद्धि नहीं की गयी है…….

Pustak Ka Vivaran : Prastut granth “Rasatantrasar v siddhaprayogasagrah” ko sanshodhit evam parivaddhit dvitiy sanskaran hai. Anek avashisht vatoke sangopang vivechanaka samavesh karane se ab yah granth prathamavrtti se lagabhag doona hogaya hai. Saral hindi bhasha mein prayah sabhi baten bhalibhaanti samajha kar likh di gayi hain . Itna honepar bhi mrly mein vishesh vrddhi nahin ki gayi hai………….

Description about eBook : The second volume is the revised edition of the book, “Rastantrasar and Siddhpryogvidhi”, which has now been almost twice as per the compilation of many residual verbal doctrines of the residual verse.All the things in simple Hindi language have been comprehensively interpreted. There is no special increase in the value…………..

“जब तक आप आंतरिक रूप से शांति नहीं खोज पाते तो इसे अन्यत्र खोजने से कोई लाभ नहीं है।” ‐ एल. ए. रोशेफोलिकाउल्ड
“When a man finds no peace within himself, it is useless to seek it elsewhere.” ‐ L. A. Rouchefolicauld

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment