रवींद्रनाथ ठाकुर को याद करने का मतलब : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Ravindra Nath Thakur Ko Yad Karne Ka Matlab : by Prafull Kolkhyan Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameरवींद्रनाथ ठाकुर को याद करने का मतलब / Ravindra Nath Thakur Ko Yad Karne Ka Matlab
Author
Category, , , ,
Language
Pages 4
Quality Good
Size 463 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : स्वीकार-अस्वीकार का दुंद्व तीव्र था। इस दौर में अधिकतर लोगों की दृष्टि बिटिश शासन की औपनिवेशिक-संस्कृति पर ही अटक जाती थी। कुछ लोगों की दृष्टि शासन के पार ब्रिटेन की जन-संस्क्रति तक पहुँचती थी। शासन के आर और पार जानेवाली इन दृष्टियों के कोण में भी अंतर था। इसलिए अद्वारह सौ सत्तावन के प्रति समाज……

Pustak Ka Vivaran : Svikar-Asvikar ka Dundv teevra tha. Is Daur mein adhiktar logon ki drshti British shasan ki Aupaniveshik-sanskrti par hi atak jati thi. Kuchh logon ki drshti shasan ke Par Britain ki jan-sanskrati tak pahunchati thi. Shasan ke aar aur par Janevali in drshtiyon ke kon mein bhi antar tha. Isliye Advarah sau sattavan ke prati samaj………

Description about eBook : The difference between acceptance and rejection was intense. During this period, the eyes of most people were stuck on the colonial-culture of British rule. Some people’s vision extended beyond the rule to the popular culture of Britain. There was also a difference in the angle of these visions going through and across the government. Therefore society towards twelve hundred fifty seven………

“सदा जवान रहने के लिए मुख का सौंदर्य नहीं, मस्तिष्क की उड़ान ज़रूरी है।” – मार्टी बुचेला
“When it comes to staying young, a mind-lift beats a face-lift any day.” – Marty Bucella

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment