सगर – विजय : उदयशंकर भट्ट द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Sagar Vijay : by Uday Shankar Bhatt Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameसगर – विजय / Sagar Vijay
Author
Category, , , ,
Language
Pages 153
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

सगर – विजय का संछिप्त विवरण : यह नाटक भी भट्ट जी मौलिक एवं सुन्दर रचना है | कथानक इसका भी वियोगान्त ही है, किन्तु रंगमंच की दृष्टि से इसे उपयोगी बनाने का भट्ट जी ने सफल प्रयत्न किया है | भाषा भी इसकी बोलचाल की है किन्तु प्रौढ़ एवं यन्त्र तंत्र दिये गये गीत भी भावपूर्ण एवं मधुर अथच हुए हैं | इसमें मतस्यगंगा की तरह संकुचित कथानक का आधार नहीं लिया गया है……

Sagar Vijay PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Vidooshak se kah rahe hai koi bhamikay manushy ya rakshas unki tino kanyao ko hare liye ja raha hai. Yah avsar bhatt ji ko svapron ki asarta aur unke udbhav par apne vichar prakat karne ko mil gaya. Svapr ki sabhi bate asaty hoti hai svapr par kon vishvash karta hai, Parantu svapn ka prabhav to padata hi hai………………
Short Description of Sagar Vijay PDF Book : To the fool, the saying is that ‘a beehive man or monster is taking their three daughters to green.’ Bhatta got this opportunity to express his views on the inherent nature of Swapro and his emergence. ‘All the words of Swapar are untrue, but the person believes in the Self, but the effect of the dream itself is.…………
“मैं अपनी परिस्थितियों का उत्पाद नहीं हूँ। मैं अपने निर्णयों का उत्पाद हूँ।” ‐ स्टीफन कॉवि
“I am not a product of my circumstances. I am a product of my decisions.” ‐ Stephen Covey

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment